Uncategorized

अन्ना की टिप्पणी पर बिफरे सांसद, लोकसभा में हंगामा

नई दिल्ली, 26 मार्च | राजनेताओं पर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार के आरोप के खिलाफ सोमवार को संसद में दलगत भवना से ऊपर उठते हुए सभी सांसदों ने इसका कड़ा विरोध किया। सेना प्रमुख वी. के. सिंह को 14 करोड़ रुपये के कथित रिश्वत की पेशकश के मामले को लेकर सुबह हुए हंगामे के बाद संसद की कार्यवाही जब दो बजे आरम्भ हुई तो लोकसभा के सदस्यों ने एकसुर में अन्ना हजारे पर हमला बोला।

अन्ना हजारे को दायरे में रहने की हिदायत देते हुए विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने आरोप लगाया कि सांसदों के खिलाफ असंसदीय शब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है। सुषमा ने कहा, “अन्ना को अपने दायरे में रहना चाहिए।”

टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि 14 मंत्रियों सहित 165 संसद सदस्य भ्रष्ट और बलात्कारी हैं।

सुषमा ने कहा कि अन्ना हजारे ने दिशा खो दी है। उन्होंने लोकपाल विधेयक पारित कराने के लिए संसद पर दबाव बनाया लेकिन वह सांसदों की लगातार आलोचना कर रहे हैं।

Catalyst IAS
ram janam hospital

जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष शरद यादव ने सुषमा की बातों का समर्थन करते हुए कहा, “अन्ना लोकतंत्र के खिलाफ हैं और वह संसद पर हमला कर रहे हैं।” शरद यादव उन नेताओं में हैं जो गत वर्ष अन्ना हजारे के अनशन में शिरकत करने जंतर-मंतर पहुंचे थे।

The Royal’s
Sanjeevani

उन्होंने कहा, “हम पिछले 30 सालों के भ्रष्टाचार से लड़ रहे हैं। हम गरीबों और किसानों की लड़ाई लड़ रहे हैं। मैंने अन्ना का समर्थन किया लेकिन उनकी हर मांग से सहमत नहीं हो सकता।”

टीम अन्ना के आरोपों पर चिंता जाहिर करते हुए कांग्रेस के संजय निरूपम ने कहा कि कथित सिविल सोसयटी के लोग अनसिविल भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने अन्ना के आंदोलन के कार्यकर्ताओं की जांच कराने की मांग की।

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के बासुदेव आचार्य और समाजवादी पार्टी (सपा) के शैलेंद्र कुमार ने भी टीम अन्ना की कड़ी आलोचना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button