Uncategorized

अंतत: मोदी ने पहली बार स्वीकारा कि वह शादी शुदा है, पत्नी का नाम यशोदा बेन है

अहमदाबाद: वडोदरा में नामांकन दाखिल के वक्त एक बार फिर से नरेंद्र मोदी के वैवाहिक जीवन का मामला उजागर हुआ है। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने अपने राजनीतिक जीवन में पहली बार अपनी पत्नी का नाम सार्वजनिक किया है। वडोदरा लोकसभा सीट से भरे गए नामांकन में 63 वर्षीय मोदी ने इस बात का उल्लेख किया है कि उनकी पत्नी का नाम जशोदा बेन है। हालांकि, पत्नी की संपत्ति के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है।

जशोदा बेन के साथ-साथ किसी का नाम आश्रित के रूप में शामिल नहीं है। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव के नामांकन के समय मोदी ने जीवन साथी के कॉलम को खाली छोड़ रखा था। इसी तरह वर्ष 2007 के नामांकन के समय भी यह कॉलम रिक्त रखा गया था, जबकि वर्ष 2002 के विधानसभा चुनाव में भी उन्होंने पत्नी के नाम का उल्लेख नहीं किया था। विपक्षी दल कांग्रेस की ओर से मोदी के अपनी पत्नी के नाम का उल्लेख नहीं करने का आरोप लगाया जाता रहा है।

कौन है मोदी की पत्नी
रिटयार्ड स्कूल टीचर जशोदाबेन (62) मोदी की पत्नी हैं। जशोदा की मोदी के साथ 17 साल की उम्र में ही शादी हो गई थी और शादी के तीन साल बाद ही बिना कोई झगड़े के वे मोदी से अलग हो गईं थीं। लेकिन, अभी राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। ज्यादा समय पूजा-पाठ में बिताने वाली जशोदा को अभी 14 हजार रूपए हर महीने पेंशन के रूप में मिलते हैं और अपना ज्यादा समय अपने भाई के साथ ही काटती हैं।

जशोदाबेन ने एक मीडिया रिपोर्ट में बताया था कि हमारा आपस में कोई झगड़ा नहीं हुआ था। मैं ही अपनी मर्जी से उनसे अलग होकर अपने पिता के घर चली गई थी। जब मैं पढ़ाई छोड़कर उनके घर आई तो उन्होंने मुझे पढ़ाई जारी रखने के लिए कहा। शादी के बाद बातचीत की शुरूआत उन्होंने ही की थी। हम किसी कड़वाहट के साथ अलग नहीं हुए थे। तीन सालों में हम केवल तीन महीने ही साथ रहे थे। उन्होंने मुझसे कभी आरएसएस या राजनीति की ओर अपने झुकाव को लेकर बातचीत नहीं की। जब मोदी ने मुझसे कहा कि मैं पूरे देश में घूमूंगा और जहां मन करेगा जाऊंगा तो मैंने भी उनके साथ चलने की बात कही थी। लेकिन उन्होंने मना कर दिया। ऎसे में मैंने भी ससुराल जाना बंद कर दिया और अपने पिता के घर वापस चली गई।

साथ ही जशोदाबेन ने कहा था कि उनमें और मोदी में अलग होने के बाद कोई संपर्क नहीं है। जब उनसे पूछा गया कि अगर वे वापस बुलाए तो क्या करोगे तो जशोदाबेन ने कहा था कि मुझे नहीं लगता कि वे मुझे वापस बुलाएंगे। मैं उनसे मिलने कभी नहीं गई।

मोदी की संपत्ति
मोदी ने नामांकन पत्र दाखिल करते वक्त अपनी संपत्ति की भी जानकारी दी। नरेद्र मोदी के पास कुल 1.5 करोड़ रूपए की संपत्ति है। इसमें 51.57 लाख रूपए की चल और 01 करोड़ रूपए की अचल संपत्ति हैं। अचल संपत्ति के रूप में उनके पास गांधीनगर में प्लॉट है। जिसकी कीमत एक करोड़ रूपएं आंकी गई है। इसके अलावा 29,700 रूपए नकद, 1,35 लाख रूपए की चार सोने की अंगूठी है। मोदी के पास अपना कोई भी वाहन नहीं है। नवंबर 2012 में विधानसभा के नामांकन के समय मोदी की कुल संपत्ति 1 करोड़ 33 लाख से ज्यादा बताई थी। इन 16 महीनों में यह 19 लाख रूपए बढ़ी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button