Uncategorized

हाल पूर्व सीएस सजल चक्रवर्ती का: जिसके आगे-पीछे कभी लगी रहती थी अफसरों की लाइन, आज वही ‘बेचारा’ अपनी हालत पर रिम्स में बहा रहा आंसू (देखें वीडियो)

Ranchi: चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता पूर्व मुख्य सचिव सजल चक्रवर्ती इन दिनों डिप्रेशन की हालत से गुजर रहे हैं. रिम्स के कार्डियक विभाग के कॉटेज में सजल 24 नवंबर 2017 से इलाजरत हैं. उन्हें सीने में दर्द व सांस लेने में तकलीफ की भी शिकायत है. सांस लेने में परेशानी का कारण मोटापा बताया जा रहा है. मेदांता में उनकी एंजियोप्लास्टि हो चुकी है. वह अपने मोटापे का सर्जिकल निदान चाहते हैं. कॉटेज में भर्ती सजल चक्रवर्ती की हालत देख लोगों को तरस आती है. ज्यादातर समय वे अपने बेड पर पड़े रहते हैं. जागते ही बुदबुदाने लगते हैं हमने किसी का क्या बिगाड़ा है? ठीक से वे खाना भी नहीं खा पाते. एक वक्त था जब सजल चक्रवर्ती के सामने अधिकारियों की लाइन लग जाती थी, लेकिनर अब हालात बदल गये. बस एक छोटी सी गलती ने उन्हें अर्श से फर्श पर पहुंचा दिया. बेबसी, मायूसी और लाचारी के सिवा कुछ नहीं बचा. जब बीते दिनों की याद आती है तब अनयास आंखों से आंसू छलक पड़ते हैं.

इसे भी पढ़ेंः चारा घोटाला : डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी मामले के 94 आरोपी को हाजिर होने का आदेश

डॉ प्रवीण श्रीवास्तव की देखरेख में चल रहा इलाज

कार्डियक विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ प्रवीण श्रीवास्तव की देखरेख में सजल चक्रवर्ती का इलाज चल रहा है. डॉ प्रवीण कहा हैं कि डिप्रेशन में रहने के कारण ही वह हमेशा कुछ बुदबुदाते रहते हैं. वे कहते है कि मैंने किसी का क्या बिगाड़ा? मेरा कोई दोष नहीं.

जेल प्रबंधन को भेजी गयी सूचना: चिकित्सा अधीक्षक

रिम्स चिकित्सा अधीक्षक डॉ एसके चौधरी से जब हमने सजल चक्रवर्ती के स्वास्थ्य के विषय में पूछा तब उन्होंने कहा की जेल प्रबंधन को सूचित कर दिया गया है. जेल प्रबंधन अपने स्तर पर आगे की कार्रवाई करेगी.

17 सालों में सिर्फ 429 दिन ही चला सदन, फिर भी विधानसभा की कार्यशाला में पहुंचे 81 में से सिर्फ 19 विधायक

चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी में मिली सजा

सजल चक्रवर्ती को चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी संबंधित चारा घोटाला मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 22 सितंबर 2017 को वर्ष की सजा सुनाई थी. जिसके बाद से वे जेल में हैं. कुछ दिनों पूर्व उनकी तबीयत खराब होने के बाद रिम्स के कार्डिक विभाग में भर्ती किया गया.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

One Comment

  1. 611734 565787Hey man, .This was an exceptional page for such a hard subject to talk about. I appear forward to reading numerous more wonderful posts like these. Thanks 108604

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button