Uncategorized

हां गोमिया में हुआ भीतरघात, क्या पार्टी करेगी कार्रवाई

Akshay Kumar Jha

Ranchi/Gomia:  गोमिया उपचुनाव में वोटिंग से पहले कयास लगाया जा रहा था कि पार्टी के कुछ ऊंचे कद के नेता भीतरघात कर सकते हैं. चुनाव के नतीजे आने के बाद यह साफ हो गया है कि गोमिया विधानसभा क्षेत्र में पार्टी के ही कुछ नेताओं ने भीतरघात किया. जिस वजह से गोमिया में बीजेपी को मुंह के बल गिरना पड़ा. बीजेपी उम्मीद के विपरीत तीसरे पायदान पर पहुंच गयी. बीजेपी की तरफ से जब माधव लाल सिंह का नाम टिकट देने के लिए सामने आया तो गोमिया विधानसभा के कुछ दिग्गज नेताओं ने इसका विरोध किया. विरोध के बाद सीएम के स्तर से इन नेताओं को बुलाकर समझाया गया. पार्टी ने जब माधव लाल सिंह के नाम की घोषणा की औपचारिकता कर रही थी, तो सभी विरोध करने वाले नेताओं को मंच पर बैठा कर मीडिया के सामने नाम का ऐलान किया गया.

गोमिया की जनता को एक मैसेज देने की कोशिश की गयी कि ये सभी बीजेपी के फैसले के साथ हैं और चुनाव में बीजेपी का पूरा समर्थन करेंगे. लेकिन जनता के लिए यह एक सब्जबाग के जैसा था. इन सभी नेताओं ने चुनाव प्रचार में तो हिस्सा लिया. लेकिन अपने ही बूथ से उम्मीदवार को वोट नहीं दिला पाए. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पार्टी के सामने सारी बात आने के बाद किसी तरह की कोई कार्रवाई होगी.

इसे भी पढ़ें – आमजन के साथ-साथ बीजेपी सांसद और मंत्री भी बिजली पानी को लेकर सीएम रघुवर दास को दे रहे नसीहत

Sanjeevani

ऊपर से समर्थन अंदर से विरोध

चुनाव के बाद जो आंकड़े सामने आ रहे हैं, उससे साफ हो रहा है कि जिन नेताओं ने माधव लाल सिंह के नाम पर विरोध जताया था, उन्होंने बीजेपी के उम्मीदवार को सिर्फ ऊपर से ही समर्थन देने का काम किया है. जितने वोट उन्होंने अपने बूथ से बीजेपी उम्मीदवार को दिलवायी, उससे साफ है कि उनके अंदर का विरोध वोटिंग के वक्त तक कायम था.

लक्ष्मण नायक : बोकारो जिला में बीजेपी का एक बड़ा चेहरा. 20 सूत्री कार्यक्रम के उपाध्यक्ष. पत्नी गीता देवी दो बार जिला परिषद का चुनाव जीती. चुनाव जीताने में लक्ष्मण नायक ने कभी कोई कोर कसर नहीं छोड़ा. लेकिन विधानसभा चुनाव में दांतू बूथ नंबर 265 पर जहां के लक्ष्मण नायक रहने वाले हैं, बीजेपी को सबसे कम वोट आया. यहां बीजेपी को 104, आजसू को 360 और जेएमएम को 53 वोट आए. लक्ष्मण नायक आने वाले विधानसभा चुनाव में अपने-आप प्रबल दावेदार मानते हैं. सीएम से इनकी नजदीकियां जगजाहिर है.

इसे भी पढ़ें – खराब ईवीएम और सूखे ने हराया, फड़णवीस ने फोड़ा उपचुनाव में हार का ठीकरा

गुणानंद महतो : बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य. क्षेत्र में बीजेपी का एक बड़ा चेहरा हैं. माधव लाल सिंह का टिकट दिए जाने का इन्होंने भी विरोध किया था. अपने-आप को आने वाले विधानसभा चुनाव में प्रबल दावेदार मानते हैं. गोमिया विधानसभा के कसमार प्रखंड के मंजूरा बूथ नंबर 316 के रहने वाले हैं. इस बूथ से भी बीजेपी को सबसे कम वोट आया. बीजेपी-88, आजसू-184 और जेएमएम-129 वोट आए.

छत्रुराम महतो :  पूर्व मंत्री छत्रुराम महतो बीजेपी के कद्दावर नेता माने जाते हैं. माधवलाल सिंह को टिकट देने से पहले पार्टी ने इन्हें भी काफी समझाया था. चुनाव प्रचार में इन्होंने भाग भी लिया. लेकिन वोटों पर नजर डालने के बाद आंकड़े चौंकाने वाले हैं. पेटरवार के सदमकला बूथ नंबर 237 के रहने वाले हैं. यहां बीजेपी-51, आजसू-480 और जेएमएम-179 वोट मिले.

इसे भी पढ़ें – जो पूछना है हमसे पूछो, मेरी पत्नी से नहीं : विधायकपति योगेंद्र महतो

देवनारायण प्रजापति : गोमिया विधानसभा का ऊभरता हुआ सितारा. माधवलाल सिंह को उम्मीदवार बनाए जाने के विरोध में शामिल थे. अपने-आप को आने वाले दिनों में विधानसभा में टिकट की दावेदारी का प्रबल दावेदार मानते हैं. ऐसे में गोमिया विधानसभा में बीजेपी को इनसे बहुत उम्मीदें हैं. हालांकि इनके बूथ नंबर पर बीजेपी अव्वल रही. लेकिन जहां आजसू का नाम तक नहीं था उस बूथ पर आजसू का दूसरे नंबर रहना संदेह की नजरों से देखा जा रहा है. देवीपुर बुथ संख्या 101 पर बीजेपी-277, आजसू-232 और जेएमएम-23 वोट मिले. 

शांति लाल जैन : बुंडू बूथ संख्या 253. यहां बीजेपी-132, आजसू-390 और जेएमएम को 60 वोट आए.

बानेश्वर महतो : कसमार के प्रखंड अध्यक्ष. दुर्गापुर बूथ संख्या 303. यहां बीजेपी-55, आजसू-156 और जेएमएम-243 वोट आए.  

इसे भी पढ़ें – 13 सालों में 25,295 लाख की 171 ग्रामीण सड़क परियोजनायें ड्रॉप

समीक्षा के बाद ही पार्टी किसी नतीजे पर पहुंचेगी : प्रवीण प्रभाकर

मामले पर न्यूज विंग से बात करते हुए प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा कि गोमिया में मिली हार का पार्टी अपने स्तर से समीक्षा करेगी. भीतरघात हुआ या नहीं इसकी भी जांच होगी. पार्टी के हार की वजह क्या थी, हर एंगल से चेक किया जाएगा. भीतरघात या फिर और किसी चूक की वजह से पार्टी की हार हुई, समीक्षा के बाद पार्टी के आला अधिकारी कार्रवाई करेंगे.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button