न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हजारीबाग : NTPC के खिलाफ गुस्से में कटकमदाग-बानादाग के ग्रामीण, कोल साईडिंग से हैं परेशान, दिया धरना, लिखा राज्यपाल को पत्र

89

News Wing
Hazaribagh, 29 November :
वंचित रैयत समिति ने हजारीबाग समाहरणालय के सामने एक दिवसीय धरना दिया. जिले के कटकमदाग-बानादाग कोयला साईडिंग के द्वारा फैलाये जा रहे प्रदूषण के खिलाफ ग्रामीणों ने उचित कार्रवाई की मांग करते हुए राज्यपाल को पत्र लिखा है.

पत्र के द्वारा ग्रामीणों ने बताया है कि कोल साईडिंग बिना चहारदीवारी दिये ही प्रदूषण कानून का खुलेआम उल्लंघन कर चलाया जा रहा है. इसकी वजह से गांव के सभी घरों में कोयले के धूल कण घुस जाते हैं. इसकी वजह से कुएं का पानी भी काला हो जा रहा है. साईडिंग के चारों ओर दीवार देनी चाहिए और जब तक दीवार नहीं दिया जाता है तब तक साईडिंग को तत्काल बंद किया जाए. साथ ही हाईवा गाड़ियों के परिचालन पर भी रोक लगायी जाए.

यह भी पढ़ें : newswing probe-01: PTPS को Joint Venture में NTPC को देने का फैसला जिस कमेटी ने लिया, उसमें NTPC के अफसर भी थे सदस्य

जबरन छीनी गयी जमीन

लोगों का कहना है कि एनटीपीसी द्वारा सिंचाई कूप को पुलिस की मदद से जबरन छीना गया है. रैयतों को बिना सूचना दिये, बिना किसी नोटिस और मुआवजे के 80 एकड़ खेती की जमीन छीन ली गयी, जिसे वापस किया जाए.

silk_park

गलत मुकदमा किया गया दर्ज

बीकेबी कंपनी के द्वारा रैयतों की जमीन पर कोयला साईडिंग के लिए रास्ता बनाया गया है. एग्रीमेंट के अनुसार विस्थापित रैयतों को टेक्निकल व नन-टेक्निकल कार्य देकर रोजगार से जोड़ा जाए. साथ ही ग्रामीणों ने कहा कि एनटीपीसी के कर्मियों के द्वारा पुराने लिये गये जमीन के पेंशन भुगतान कागजात पर हस्ताक्षर कराने के दौरान धोखे से नये जमीन लेने के संबंधित सहमति पत्र पर भी हस्ताक्षर करा लिया गया है. इस सहमति पत्र को रद्द किया जाए. साथ ही ग्रमीणों की आवाज दबाने के लिए उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. धारा 107 के तहत दर्ज मामले और अन्य सभी मुकदमों को वापस लिया जाए.  

यह भी पढ़ें : Newswing Probe-04: पीवीयूएनएल को जब बंद करने का फैसला लिया गया, तब फायदे में थी कंपनी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: