Uncategorized

हजारीबाग जेल के कैदियों का होगा इन्टरटेनमेंटः 72 वार्डों में लगा डिश टीवी और 18 सेटटॉप बॉक्स

जेपी केंद्रीय कारा को मॉडर्न जेल बनाने की कवायद, बंदियों की वर्षों पुरानी मांग पूरी

Hazaribag: हजारीबाग के जयप्रकाश नारायण केंद्रीय कारा के कैदियों को नये साल का तोहफा मिला है. कैदियों की सालों पुरानी मांग पूरी हो गयी है. अब जेल के कैदियों को इन्टरटेनमेंट का साधन मिल गया है. जेल के 72 वार्डों में डिश टीवी और 18 सेटटॉप बाक्स लगाया गया है. एक सेटटॉप बॉक्स से चार टीवी चलेगा. इस बार 31 दिसंबर के कार्यक्रमों का लुत्फ जेल के बंदी उठा सकेंगे. इस बाबत सारी तकनीकी तैयारी पूरी हो गई है. टीवी लगने से बंदियों में काफी खुशी है. गौरतलब है कि जेल में डिश टीवी की मांग के लिए कैदी कई बार धरना-प्रदर्शन भी कर चुके हैं. समय-समय पर राजनीतिक बंदी भी इनकी मांगों का समर्थन करते रहें हैं.

इसे भी पढ़ेंः प्रावधानों को नजरअंदाज कर आईएएस की पत्नी रूचिका मंगला को बनाया गया स्मार्ट सिटी का स्वतंत्र निदेशक !

Catalyst IAS
ram janam hospital

योगेंद्र साव-निर्मला देवी ने भी किया था अनशन

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

पूर्व मंत्री योगेंद्र साव, विधायक निर्मला देवी और इसी महीने राजनीतिक बंदी बीएन सिंह के नेतृत्त्व में सैकड़ों बंदी 12 दिसंबर से 15 दिसंबर तक अनशन पर बैठे थे. डीसी-एसपी के जेल के निरीक्षण के दौरान भी बंदी डिश टीवी लगवाने की मांग उनसे कर चुके थे. जेल में जिला प्रशासन के छापों के दौरान भी बंदियों ने जिला प्रशासन से फोन के अलावे बंदियों की सुध लेने की गुजारिश की थी. नए काराधीक्षक हामिद अख्तर, डीसी रविशंकर शुक्ला, एसपी अनूप बिरथरे के सहमति से बंदियों की यह मांग पूरी हो सकी है.

इसे भी  पढ़ें –  राजस्थान सरकार सोलर पावर 2.74 रुपए प्रति यूनिट खरीदेगी और झारखंड में रेट 4.95 रुपए प्रति यूनिट

मॉडर्न जेल के रूप में विकसित कर पेश किया जायेगा उदाहरणः काराधीक्षक

बंदी इन अधिकारियों के प्रयास से काफी खुश दिख रहे हैं. काराधीक्षक हामिद अख्तर ने बताया कि हजारीबाग जेल ऐतिहासिक जेल है. इसे मॉडर्न जेल में विकसित कर उदाहरण प्रस्तुत करने की काफी संभवानाएं हैं. जिसे क्रमबद्ध तरीके से पूरा करने का प्रयास किया जाएगा. इसके अलावा बंदियों के मुलाकाती में होनेवाली परेशानी समेत मुलभूत सुविधाओं में आ रही दिक्कतों को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – मोमेंटम झारखंड पड़तालः अखबार, टीवी और डोर्डिंग्स पर खर्च हुए 40.55 करोड़ रुपए, मीडिया पार्टनर की तीन करोड़ फीस अलग से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button