Uncategorized

स्मार्टफोन के रेडिएशन से गर्भपात का खतरा : अध्ययन

Washington: गर्भावस्था में स्मार्टफोन, वाईफाई राउटर और माइक्रोवेव जैसे उपकरणों के गैर-आयनीकृत रेडिएशन के संपर्क में आने से गर्भपात का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है. विद्युत उपकरणों के इस्तेमाल और विद्युत के प्रवाह के दौरान चुंबकीय क्षेत्र से गैर-आयनीकृत विकिरण निकलते हैं.

रेडिएशन का स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव 

इसे विद्युत उपकरणों, पावरलाइन और ट्रांसफार्मर सहित वायरलेस उपकरण एवं वायरलेस नेटवर्क सहित कई स्रोतों से पैदा किया जा सकता है. इंसान इस्तेमाल के दौरान इन स्रोतों की निकटता के कारण चुंबकीय क्षेत्र के संपर्क में आता है. आयनीकृत रेडिएशन से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव पहले ही साबित हो चुके हैं. इससे तबीयत खराब होना, कैंसर और अनुवांशिक बीमारियां हो सकती हैं. लेकिन गैर-आयनीकृत रेडिएशन से इंसानों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव के साक्ष्य सीमित थे.

यह भी पढ़ें: भारत में आधी से ज्यादा महिलाएं अनचाहे रूप से होती हैं गर्भवती

रेडिएशन के संपर्क को सटीक तरीके से मापने में सफल रहे हैं: डि-कुन ली

अमेरिका में कैसर परमानेंट डिवीजन ऑफ रिसर्च के डि-कुन ली ने बताया कि कुछ अध्ययन चुंबकीय क्षेत्र में गैर-आयनीकृत रेडिएशन के संपर्क को सटीक तरीके से मापने में सफल रहे हैं.’’ अनुसंधानकर्ताओं ने 18 साल से अधिक आयु की गर्भवती महिलाओं को छोटे आकार का निगरानी उपकरण 24 घंटे पहनने की सलाह दी है. यह उपकरण चुंबकीय क्षेत्र की माप करेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

One Comment

  1. 814118 46487You completed several very good points there. I did specific searches on the issue and found many individuals go in conjunction with along with your blog. 877544

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button