न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

सेबी का फैसला : 500 बड़ी कंपनियां 1 अप्रैल 2020 तक चेयरमैन और एमडी/सीईओ का पद करें अलग, अंबानी और प्रेमजी को भी छोड़ना पड़ेगा एक पद 

53

Mumbai : देश के बड़े-बड़े उद्योगपतियों का अपनी कंपनी में एक साथ दो पदों पर बने रहना अब मुश्किल होने जा रहा है. पूंजी बाजार रेगुलेटर सेबी ने कॉरपोरेट गवर्नेंस पर उदय कोटक समिति की कई सिफारिशें मंजूर कर ली हैं. इनमें से एक में मार्केट कैप के लिहाज से 500 बड़ी कंपनियों को 1 अप्रैल 2020 तक चेयरमैन और एमडी/सीईओ का पद अलग करने को कहा गया है. फॉर्चून पत्रिका के मुताबिक, इन 500 कंपनियों का कुल टर्नओवर भारत के सकल घरेलू उत्पाद के 60 फीसदी से ज्यादा है. ऐसे में चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर पद पर तैनात देश के बड़े उद्योगपतियों को इनमें से एक पद छोड़ना होगा. ऐसे उद्योगपतियों की फेहरिस्त में रिलायंस के मुकेश अंबानी और विप्रो के अजीम प्रेमजी भी शामिल हैं.

eidbanner

कोटक समिति का तर्क

कोटक समिति का कहना है कि चेयरमैन और एमडी का पद एक शख्स के पास होने से मैनेजमेंट की स्वतंत्रता कम होती है. जबकि दोनों पद अलग-अलग शख्स को देने से गवर्नेंस का ढांचे को संतुलित किया जा सकता है. गौर करने की बात है कि किसी भी कंबनी में चेयरमैन बोर्ड ऑफ डायरेक्टर का प्रमुख होता है.इसका फोकस विजन और लॉन्ग टर्म ग्रोथ पर होता है. जबकि सीईओ-सीएमडी पर कंपनी के दैनिक के कामकाज की जिम्मेदारी होती है. लिहाजा इस पद की चेयरमैन से ज्यादा अहमियत होती है.

इसे भी देखें- डेटा चोरी विवाद के बाद फेसबुक ने डेटा ब्रोकरों से तोड़े नाते, प्राइवेसी सेटिंग्स में भी बदलाव

सेबी

कमजोर चेयरमैन बनाने का बढ़ सकता है प्रचलन

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

गौरतलब है कि जो प्रमोटर कंपनी पर अपनी पकड़ ढीली नहीं करना चाहते, वे एमडी या सीईओ का पद अपने पास रख किसी कमजोर शख्स को चेयरमैन बना सकते हैं. इस तरह दोनों पदों का कंट्रोल उन्हीं के पास रहेगा.

ज्यादा शेयरहोल्डिंग वाले प्रमोटरों के लिए हो सकती है परेशानी

यह फैसला कंपनी में ज्यादा शेयरहोल्डिंग वाले प्रमोटरों के लिए परेशानी का सबब बन सकता है. देश की 91 फीसदी कंपनियों में प्रमोटर या उनके परिजनों के पास बहुमत शेयरहोल्डिंग है. वहीं, सेबी ने बोर्ड मीटिंग में म्यूचुअल फंड स्कीमों में अतिरिक्त खर्च की सीमा 0.15% घटाने का भी फैसला किया है.

इसे भी देखें- अरुण शौरी ने चेताया, नरेंद्र मोदी का सत्ता पर कमजोर हो रहा नियंत्रण-शाह का मजबूत, देश को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: