न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुबह 10 बजे तक ही बाजार लगायें, बाबू 10 बजे तक बोहनी भी नहीं होती (सुनें-देखें सब्जी विक्रेताओं की पीड़ा)

32

NEWSWING

Ranchi, 08 December : लालपुर में दिन के 10 बजे तक ही सब्‍जी बाजार लगाने की अनुमति है. इसके बावजूद लोग मान नहीं रहे हैं. यहां पर शुक्रवार को दिन के 10 बजे के बाद भी अपनी दुकानें सजा कर बेच रहे थे. सभी को मालूम था की नगर निगम की इंफोर्समेंट टीम आयेगी और कार्रवाई करेगी. इसके विरोध के लिए सब्‍जी विक्रेताओं ने पहले से ही अपनी तैयारी की हुई थी. लालपुर चौक के पास नगर निगम की इंफोर्समेंट टीम पुलिस बल के साथ जैसे ही पहुंचे, सब्‍जी विक्रेता अपने हाथों में बैनर पोस्‍टर लेकर नारेबाजी करने लगे.

यह भी पढ़ें- अतिक्रमण हटाओ अभियान टीम में शामिल पु‍लिस जवान ने किया खुले में पेशाब, दिया जुर्माना

इंफोर्समेंट टीम का ऐसा हुआ विरोध

वहीं दूसरी ओर नगर निगम की इंफोर्समेंट की टीम लाउडस्‍पीकर और माइक लेकर सब्‍जी विक्रेताओं को निर्देश दे रही थी कि वह वहां से अपनी दुकानें हटा लें. आप लोग कानून को अपने हाथ में न लें. सब्‍जी विक्रेताओं के हाथ में ऐसे बैनर भी थे, जिसपर लिखा हुआ था कि प्रशासन सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करे और उन्‍हें बाजार की सुविधा दे.

लालपुर सब्‍जी बाजार में निगम की इंफोर्समेंट टीम पहुंची थी, वहीं दूसरी ओर कई सब्‍जी बेचने वाले अपनी दुकान लगाये हुए थे. जैसे ही टीम उस ओर पढ़ने लगी, सब्‍जी बेचने वालों में अफरा-तफरी मच गई. सब्‍जी विक्रेता जब्‍त होने की डर से अपना सामान समेटने लगे.

यह भी पढ़ें- सब्‍जी बाजार हटते ही सुगम हो गया लालपुर-कोकर ट्रैफिक

सब्‍जी बेचने वाली वृद्ध दिव्‍यांग ने कहा ‘लंगड़ी हूं, अब मैं क्‍या करूं’

कोकर की एक वृद्ध दिव्‍यांग महिला बैसाखी के सहारे लालपुर बजार में सब्‍जी का कारोबार करती है. उसने बताया कि वह सुबह घर का काम निपटाने के बाद 10 बजे तक यहां आती है. दूसरे से सब्जियां लेकर बेचती है. सरकार के सख्‍ती के बाद बहुत मुश्किल हो गया है. लंगड़ी लूली हूं, मैं अब कहां जाउंगी. सब्‍जी बेच कर जो थोड़ी कमाई होती है, उसी से घरबार चलता है. मेरा कोई दुनिया में और कोई नहीं है. काम नहीं करूंगी तो खाउंगी क्‍या.

इसी तरह 80 साल की मौसिन इस बाजार में 7-8 पीस झाड़ू लाती है और बेचती हैं. उन्होंने बताया कि बुढ़ी हो गयी हूं. तबियत भी खराब रहती है. ठंढ के कारण 11 बजे तक यहां आकर झाड़ू बेचती हूं. इससे 30-40 रुपये की कमाई हो जाती है, तब 3-4 बजे तक घर चली जाती हूं. लेकिन अब पुलिस वाले परेशान कर रहे हैं, क्‍या करूंगी.

silk_park

10 बजे तक तो बोहनी भी नहीं होती

इस दौरान सब्‍जी बेचने वाली बसंती देवी ने गुस्‍से और आक्रोश में बताया कि सुबह 10 बजे से पहले कौन सब्‍जी खरीदने आता है. सुबह 10 बजे तक ज्‍यादातर लोग बच्‍चों को स्‍कूल भेजने और ऑफिस के लिए व्‍यस्‍त रहते हैं. सुबह 10 बजे कोई नहीं आता है. अगर प्रशासन समय निर्धारित करना चाहती है तो शाम को 3 बजे के बाद हमें बाजार लगाने को कहे. सुबह को बाजार लगाना हमें मंजूर नहीं. उर्मिला देवी ने बताया कि रातू के देहात से बाजार से सब्‍जी बेचने आते हैं. बड़ी दूर से आते हैं. सुबह 10 बजे तक यहां कोई बोहनी भी नहीं होता है.

सफाई और ट्रैफिक के लिए निगम की पहल

वहीं स्‍थानीय लोगों ने बताया कि सब्‍जी बाजार व्‍यवस्थित होने से यह इलाका साफ-सुथरा भी रहेगा. इस तरह किसी के घर के सामने बाजार लगती है. इस पर रोक जरूरी है. प्रशासन ने अच्‍छा कदम उठाया है. यह काम बहुत पहले हो जाना चाहिए था.

लालपुर में बनेगा मॉडर्न सब्‍जी मार्केट

रांची नगर निगम के डिप्‍टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने बताया कि कुछ साल पहले लालपुर के पास मॉडर्न वेजिटेबल मार्केट कॉम्‍पलेक्‍स बनाने के प्रस्‍ताव को स्‍वीकृत किया गया था. इसके लिए एक करोड़ रुपये की राशि भी आ गई थी. लेकिन किसी तकनीकी कारणों से उसे रोक दिया गया. अब उसे फिर से शुरू करने पर विचार किया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: