न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीएसई पेपर लीक: कांग्रेस ने एचआरडी मंत्री, सीबीएसई प्रमुख का मांगा इस्तीफा

25

New Delhi: कांग्रेस ने सीबीएसई की दसवीं और 12वीं कक्षा के परीक्षा पत्र लीक होने के मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार पर देश की युवा शक्ति के भविष्य को अंधकार में डालने का आरोप लगाते हुए गुरुवार को मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर एवं सीबीएसई अध्यक्ष अनीता कारवाल के इस्तीफे की मांग की. पार्टी ने इस मामले की उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराने की भी मांग की है.

इसे भी पढ़ें:  चार लाख का केक, 19 लाख का फूल और 2.5 करोड़ का टेंट : झारखंड की बेदाग सरकार पर अब “स्थापना दिवस घोटाले” का दाग

कितने लीक हैं, चौकीदार वीक हैं: राहुल

पककांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने पेपर लीक मसले पर ट्वीट कर कहा, ‘‘परीक्षा लीक ने लाखों छात्रों की उम्मीदें एवं भविष्य तबाह कर कर दिया. कांग्रेस ने हमेशा हमारी संस्थाओं का संरक्षण किया. आरएसएस- भाजपा द्वारा जब हमारी संस्थाओं को नष्ट किया जाएगा तो ऐसा ही होगा. मेरी बात मानिये, यह तो अभी शुरूआत है.’’ उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ कितने लीक? डेटा लीक ! आधार लीक ! एसएससी परीक्षा लीक ! चुनाव तारीख लीक ! सीबीएसई परीक्षा पत्र लीक ! हर चीज में लीक है. चौकीदार वीक है.’’

इसे भी पढ़ें: अरुण शौरी ने चेताया, नरेंद्र मोदी का सत्ता पर कमजोर हो रहा नियंत्रण-शाह का मजबूत, देश को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी

कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि मोदी सरकार देश की युवा शक्ति पर ग्रहण लगाने पर तुली है और उसके भविष्य को अंधकारमय बना रही है. उन्होंने कहा कि सबसे शर्मनाक बात यह कि अब तो देश के भविष्य को भी चुराया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा नहीं है कि देश के चौकीदार को इसकी खबर नहीं है. किंतु चौकीदार तो रजाई ओढ़ कर सोने का स्वांग कर रहे हैं क्योंकि चोर से उनकी कहीं न कहीं नातेदारी है.’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि दसवीं और बारहवीं की परीक्षा विद्यार्थी के भविष्य की बुनियाद होती है. ‘‘मोदी सरकार ने सीबीएसई के तीन पत्र लीक करवा कर उनकी बुनियाद को चुरा लिया है.’’

इसे भी पढ़ें: CBSE का ऐलान : 10वीं का मैथ्स और 12वीं का इकोनॉमिक्स पेपर की परीक्षा दोबारा होगी

श्री सुरजेवला ने कहा कि इससे पहले भी व्यापम घोटाले और एसएससी परीक्षाओं में गड़बड़ी के कारण युवाओं का भविष्य अधिकार में डाला गया है. उन्होंने कहा कि केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) एकाउंट्स, अर्थशास्त्र एवं गणित के परीक्षा पत्र ही नहीं लीक हुए बल्कि भौतिकशास्त्र एवं जीव विज्ञान के पेपर लीक होने की बात भी सामने आ रही है जिसकी जांच नहीं हुई. सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि सरकार के संरक्षण में फूलने-फलने वाले शिक्षा माफिया ने लाखों विद्यार्थियों का भविष्य अंधकार में डाल दिया है. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से सवाल किया कि ‘‘क्या एग्जाम वारियर अब चीटिंग वारियर हो गये हैं?’’

इसे भी पढ़ें: आप चाहें या न चाहें, आपके जीवन में पहली अप्रैल से होंगे ये बड़े बदलाव

उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री मोदी एवं तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सीबीएसई के अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पद को दो साल तक खाली क्यों रखा ? आखिरकार इस पद पर जुलाई 2016 को नियुक्ति की गयी लेकिन उन्हें बाद में हटा दिया गया. इसके बाद सितंबर 2017 में इस पद अनीता करवाल को नियुक्त किया गया.  

इसे भी पढ़ें:महाराष्ट्र: चूहा घोटाले के बाद चाय घोटाला ! रोजाना 18500 कप चाय पीते रहे सीएम के मेहमान

ज्ञात हो कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने इस मामले में दो अलग अलग मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. दिल्ली पुलिस सीबीएसई की 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र का पर्चा कथित रूप से लीक होने के मामले में राजेंद्र नगर में एक कोचिंग सेंटर के मालिक से पूछताछ कर रही है. सीबीएसई ने अपनी शिकायत में कोचिंग सेंटर के मालिक का नाम लिया है और वह पर्चा लीक मामले में संदिग्ध है. दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा 12वीं के अर्थशास्त्र और 10वीं कक्षा के गणित का पर्चे कथित रूप से लीक होने की जांच कर रही है. अपराध शाखा ने इसे लेकर दो अलग अलग मामले दर्ज किए हैं.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: