न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीएम के प्रेस सलाहकार अजय कुमार पर कार्रवाई, मोमेंटम झारखंड के बाद हुए एमओयू को लेकर लाया गया कार्यस्थगन प्रस्ताव

48

Ranchi: सीएम के प्रेस सलाहकार अजय कुमार पर कार्रवाई के लिए शीतकालीन सत्र में कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया गया. प्रस्ताव चक्रधरपुर विधायक शशिभूषण समद की तरफ से लाया गया था. अजय कुमार पर राज्यसभा चुनाव में हार्स ट्रेडिंग करने का आरोप है. आरोप के बावजूद किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं होने पर विधायक शशिभूषण समद ने यह प्रस्ताव सदन के समझ रखा. लेकिन सदन की तरफ से प्रस्ताव को अमान्य कर दिया गया. मामले पर सदन में किसी तरह की बहस नहीं हो सकी.

इसे भी पढ़ेंः सीएम ने कहा विपक्ष को मिर्ची लग रही है क्या, तो हेमंत ने कहा आप अधिकारियों के जाल में फंस चुके हैं, बाहर निकलें

इसे भी पढ़ेंः शिक्षा न्यायाधिकरण विधेयक को लेकर हेमंत ने उठाया सवाल, कहा जब बिल गिर चुका है, तो प्रवर समिति को कैसे भेजा गया

मोमेंटम झारखंड को लेकर अरूप चटर्जी ने लाया कार्यस्थगन प्रस्ताव

मोमेंटम झारखंड होने के बाद जिस तरह से सरकार ने आनन-फानन में फर्जी कंपनियों के साथ करोड़ों का करार किया. उसे लेकर निरसा विधायक अरूप चटर्जी ने सदन में कार्यस्थगन का प्रस्ताव लाया. अरूप चटर्जी ने प्रस्ताव में सवाल किया कि कैसे सरकार ने एक महीने वाली कंपनी से करोड़ों का करार कर लिया. हालांकि मामले पर सदन में बहस नहीं हो सकी. सदने में प्रस्ताव को अमान्य कर दिया.

इसे भी पढ़ेंः विधानसभा सत्र का आखिरी दिन, कार्यवाही से पहले बकोरिया कांड व मोमेंटम झारखंड को लेकर जेएमएम का हंगामा

इसे भी पढ़ेंः मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने उठाया दोहरा लाभ, उनकी सदस्यता हो रद्द : चितरंजन चौधरी

प्रज्ञान विश्वविद्यालय को लेकर बादल पत्रलेख ने लाया स्थगन प्रस्ताव

विधायक बादल पत्रलेख ने प्रज्ञान विश्वविद्यालय को लेकर सदन में कार्यस्थगन का प्रस्ताव लाया. विधायक ने सवाल किया कि कैसे दिसंबर 2011 में यूजीसी के प्रज्ञान फाउंडेशन की इंडिन इंस्टीच्यूट ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन, कोलकाता को फर्जी घोषित करने के बाद भी सरकार ने विश्वविद्यालय के साथ करार कर लिया. श्री बादल ने कहा कि 16-17 फरवरी 2017 को आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर समिट-2017 (मोमेंटम झारखंड) में  सरकार और प्रज्ञान यूनिवर्सिटी के बीच 225 करोड़ का एओयू हुआ. प्रज्ञान इंटरनेशन यूनिवर्सिटी का विधेयक 18 मार्च 2016 को विधानसभा में ध्वनि मत से पारित करा दिया गया था. जिसके बाद छह मई 2016 को राज्यपाल के हस्तक्षर से इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी गयी. हालांकि मामले पर बहस नहीं हो सकी. सदन में इसे आमान्य घोषित कर दिया.

palamu_12

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड की जांच में तेजी आते ही बदल दिए गए सीआईडी एडीजी एमवी राव

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: