न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सिल्ली विधानसभा : अब सुदेश की टक्कर में कौन,  झामुमो में मंथन

182

Ranchi :  झामुमो विधायक अमित महतो को दो साल की सजा होने के बाद सिल्ली विधानसभा की सीट रिक्त हो गयी है. बता दें कि कोर्ट द्वारा दोषी करार देते हुये दो साल की सजा सुनाये जाने के बाद अब अमित महतो चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य हो गये हैं. सिल्ली विधानसभा क्षेत्र से झामुमो का अगला नया चेहरा कौन होगा, यह देखना दिलचस्प हो गया है. एक ओर सिल्ली‍ क्षेत्र के लिए अमित अपनी जगह किसी करीबी को आगामी उपचुनाव में उम्मीदवार बनाना चाहेंगे,  दूसरी ओर पूर्व उपमुख्यमंत्री सह आजसू सुप्रीमो अपनी खोयी हुई सीट वापस लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. अमित महतो की सजा के बाद सुदेश महतो की दिनचर्या बदल गयी है.

Ranchi :  झामुमो विधायक अमित महतो को दो साल की सजा होने के बाद सिल्ली विधानसभा की सीट रिक्त हो गयी है. बता दें कि कोर्ट द्वारा दोषी करार देते हुये दो साल की सजा सुनाये जाने के बाद अब अमित महतो चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य हो गये हैं. सिल्ली विधानसभा क्षेत्र से झामुमो का अगला नया चेहरा कौन होगा, यह देखना दिलचस्प हो गया है. एक ओर सिल्ली‍ क्षेत्र के लिए अमित अपनी जगह किसी करीबी को आगामी उपचुनाव में उम्मीदवार बनाना चाहेंगेदूसरी ओर पूर्व उपमुख्यमंत्री सह आजसू सुप्रीमो अपनी खोयी हुई सीट वापस लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. अमित महतो की सजा के बाद सुदेश महतो की दिनचर्या बदल गयी है. वे अपना ज्यादातर समय अपने विधानसभा क्षेत्र में दे रहे हैं. सिल्ली, सोनाहातू, राहे और अनगड़ा के विभिन्न आयोजनों में शिरकत कर रहे हैं. उनका अपने क्षेत्र की जनता से जुड़ाव बढ़ा है. ऐसे में झामुमो के लिए आजसू सुप्रीमो की टक्कर में बराबर कद वाला उम्मीदवार खड़ा करना चुनौती होगा. यह मंथन झामुमो में चल रहा है. 

इसे भी पढ़ें – अमित महतो को सजा सुनाए जाने के बाद विधायकी हुई रद्द, राज्यसभा में मत हो कैंसिल, हाईकोर्ट जाने की तैयारी में पार्टी : बीजेपी

अमित चाहेंगे, उनकी पसंद का हो उम्मीदवार

अमित महतो निचली अदालत के फैसले को हाइकोर्ट में चुनौती देने की तैयारी कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर वह अपने कार्यकर्ताओं को उपचुनाव की तैयारी के लिए निर्देश भी दे रहे हैं. इससे स्पष्ट है कि वह सिल्ली उपचुनाव में अपनी पसंद का उम्मीदवार चाहेंगे, यह भी कयास लगाया जा रहा है कि प्रत्याशी के तौर पर उनका कोई करीबी भी हो सकता है. हालांकि यह झामुमो के अध़्यक्ष पर है कि वे किसे टिकट देते हैं. बता दें कि अमित इस बारे में अभी कोई जानकारी देने से बच रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – चोर मचाये शोर, राज्यसभा चुनाव पर बोले जेवीएम महासचिव बंधु तिर्की

लगातार संपर्क में हैं शुभचिंतक

अब जब अमित महतो की विधायकी खत्म होने के बाद अगले कुछ महीनों में सिल्ली विधानसभा का उपचुनाव होगा. हालांकि‍ अमित महतो को अदालत ने दो साल की सजा सुना दी है, लेकिन सिल्ली विधानसभा क्षेत्र में उनकी साख में ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है. अदालत के फैसले के बाद उनके शुभचिंतक लगातार संपर्क में हैं. फिलहाल वह झामुमो के सदस्य हैं, इसलिए वह नया चेहरा कौन होगा, यह पार्टी की बैठक में ही तय होगा.

इसे भी पढ़ें – जेवीएम के चोर मचाये शोर वाले बयान पर भाजपा का पलटवार, प्रतुल शाहदेव ने कहा – उल्टा चोर कोतवाल को डांटे

2014 में सुदेश महतो को दी थी शिकस्त

आने वाले समय में सिल्ली विधानसभा सीट और वहां होने वाला उपचुनाव बड़ा ही दिलचस्प होगा. अमित महतो ने झारखंड सरकार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो को करारी शिकस्त दी थी. अमित महतो की मजबूत दावेदारी और मौजूदगी को देखते हुए 2014 के विधानसभा चुनाव में सुदेश महतो ने पहली बार बीजेपी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा था. बावजूद इसके सुदेश भारी अंतर से हार गये थे.

विधानसभा में झामुमो विधायकों की संख्या घटकर 17 रह जायेगी

अमित महतो की विधायकी खत्म होते ही झारखंड विधान सभा में झामुमो विधायकों की संख्या घटकर 17 रह जायेगी. कुछ दिनों पूर्व तीन साल की सजा सुनाये जाने की वजह से झामुमो के ही अन्य विधायक योगेन्द्र प्रसाद महतो की भी विधायकी चली गयी थी. इस तरह विधानसभा में अब झामुमो के दो विधायक घट जायेंगे. लोहरदगा से भी आजसू विधायक कमल किशोर भगत की विधायकी सजायाफ्ता होने के बाद चली गयी थी. वहां हुए उप चुनाव में कांग्रेस के सुखदेव भगत ने जीत दर्ज की थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: