न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साहिबगंज: रैयतों ने रैली निकाल जताया विरोध, कहा- मर जायेंगे लेकिन सरकार को नहीं देंगे अपनी जमीन

32

NEWS WING

Sahebganj, 30 November: जिले में आज आदिवासी भूमि संरक्षण समिति के बैनर तले सागरमल योजना के तहत, बंदरगाह व गंगा पुल के बीच प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र व स्मार्ट सीटी बनाने को लेकर ग्रामीणों ने विरोध किया. दरअसल स्मार्ट सिटी बनाने के लिए 5000 एकड़ कृषि योग्य रैयती ज़मीन नहीं देने को लेकर ग्रामीणों ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन में 39 गांवों के रैयत शामिल हुए. रैयतों ने  विशाल रैली को माधयम से अपनी मंशा को साफ कर दिया कि वह किसी भी कीमत पर अपनी कृषि योग्य भूमि सरकार को देकर विस्थापित नहीं होना चाहते हैं. इस रैली में बड़ी संख्या में आदिवासी समाज के लोग अपने पूरे परिवार के साथ पारंपरिक हथियार लिये शामिल हुए.

यह भी पढ़ें – झारखंड PRD कुछ खास विभागों व लोगों के लिए है या सभी के लिए, खाद्य आपूर्ति विभाग का कवरेज क्यों नहीं : सरयू राय

hosp3

यह भी पढ़ें – सूबे में विपक्षी नेता आदिवासियों का ना करायें धर्म परिवर्तन,नहीं तो सरकार चिन्हित कर भेजेगी जेल – रघुवर दास

जान दें देंगे लेकिन अपनी जमीन नहीं देंगे – ग्रामीण 

वहीं रैयतों के द्वारा निकाली गयी रैली स्थानीय झंडा मेला मैदान से निकल कर जिला समाहरणालय पहुंचा और वहां उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा गया. इसके बाद रैली शहर भ्रमण करते हुऐ स्थानीय रेलवे मैदान में सभा में तब्दील हो गयी. रैयतों के इस आंदोलन का नेतृत्व बालदेव उरांव ने किया. इस मौके पर बालदेव ने कहा कि 39 मोजा के 5000 एकड़ कृषि योग्य भूमि को औद्योगिक हब व स्मार्ट सीटी के अधिग्रहण के लिये चिन्हित किया गया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो भी जमीन चिन्हित किये गये हैं, उनमें से ज़मीन के 90% रैयत आदिवासी है. इसके अलावा 10% रैयत गैरआदिवासी हैं और इनकी जीविका का मुख्य साधन कृषि और पशुपालन है. वहीं वीरेद्र मुर्मू ने कहा की जो ज़मीन सरकार ने चिन्हित किया है, वे सभी बहुफसली भूमि हैं. इससे आगे उन्होंने कहा कि, हम जान दे देंगे. अपनी  लेकिन ज़मीन नहीं देंगे. जबकि पौलुस मुर्मु ने कहा की सरकार मुआवजा एक बार देती है, जमीन हमें अनाज सालों भर देती है, हम मेहनत करगें और जमीन किसी भी कीमत पर नहीं देंगे.

यह भी पढ़ें – साहिबगंजः बंदरगाह योजना के विस्थापित ग्रामीणों ने किया लाल पट्टा लेने से इनकार

रैली में  मौजूद लोग

 रैली में बालदेव उरांव, गंगा सोरेन, होपन सोरेन, वीरेद्र मुर्मु, पौलुस सोरेन, बौका मुंडा के अलावा बड़ा तोफीर, शोलबंदा, बड़ा तेतरीया, छोटा तेतरीया, लोह्न्डा  व अन्य आदिवासी गाँव के लोग शामिल थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: