न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साहिबगंज में नाव से होती है स्टोन चिप्स की अवैध ढुलाई, प्रशासन मौन (देखें वीडियो)

101

NEWSWING

mi banner add

Sahebganj, 13 December : जिला में स्टोन चिप्स की अवैध ढुलाई नाव के द्वारा धड़ल्ले से जारी है. यह ढुलाई जिला प्रशासन के नाक के नीचे हो रही पर प्रशासन चुप्पी साधे बैठी है. दरअसल साहिबगंज में उद्योग के नाम पर सिर्फ पत्थर खनन का काम ही है. सरकार खनन कार्य करने के लिए पत्थर व्यवसायीयों को स्थान लीज पर देती है. पत्थरों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए खनन विभाग चालान निर्गत करती है. पर नदी के रास्ते पत्थर व्यवसायी बिना चालान के ही स्टोन चिप्स की सप्लाई करते हैं. पत्थर माफिया नांव में चिप्स भरकर गंगा नदी को पार कर अन्य प्रदेशों में भेजते हैं. इस बात की जानकारी जिला प्रशासन को भलीभांति है, पर वह मौन धारण कर बैठी है.

किन-किन घाटों से होती है अवैध ढुलाई

जिले के समदा घाट से सैकड़ों नावों मे भरकर लाखों टन पत्थर अवैध तरीके से दूसरे प्रदेशों में भेजे जाते हैं. इसी तरह से तालझाड़ी के शुकसेना घाट व राजमहल के भी कई गंगा घाटों से भर-भर कर नावों से पत्थर भेजे जाते हैं. वहीं प्रशासनिक पदाधिकारियों का कहना है कि ऐसी किसी भी अवैध तस्करी की सूचना उन्हें नहीं है.

नावों से वसूली जाती है मोटी रकम

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

घाट पर मौजूद एक व्यक्ति ने नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर बताया कि नावों से जो स्टोन चिप्स अन्य प्रदेशों में भेजे जाते हैं, उनसे मोटी रकम वसूली जाती है. वसूली कर यह रकम सरकारी नुमाइंदे तक पहुंचाये जाते हैं.

क्या कहते हैं थाना प्रभारी

इस मामले में मुफस्सिल थाना प्रभारी विनोद तिर्की ने बताया कि समदा घाट पर नाव में स्टोन चिप्स लोड होने की सूचना पर कारवाई की गयी थी. अगर समदा घाट से फिर नाव पर स्टोन चिप्स लोड किया जा रहा है तो यह नहीं होने दिया जायेगा. उस पर अंकुश लगाने की पूरी कोशिश करूंगा. पत्थर माफियाओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दूंगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: