Uncategorized

सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी पर कोर्ट ने दो मई तक के लिए लगाई रोक

Mumbai : बंबई उच्च न्यायालय ने कथित वित्तीय अनियमितता के मामले में सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ और उनके सहयोगी जावेद आनन्द की गिरफ्तारी पर दो मई तक के लिए गुरुवार को रोक लगा दी. न्यायमूर्ति रेवती मोहिते- डेरे की पीठ ने उनकी परागमन अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें दो मई तक के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी. सीतलवाड़ और उनके सहयोगी ने यह याचिका कल दायर की थी. उनकी याचिका को स्वीकार करते हुए पीठ ने उन्हें बयान दर्ज कराने के लिए शुक्रवार को और जरूरत के अनुसार जांच एजेंसी के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें : काला हिरण शिकार केस में सलमान खान को 5 साल की सजा-10 हजार का जुर्माना बाकी सभी आरोपी बरी

सीतलवाड़ और आनन्द के खिलाफ पिछले सप्ताह दर्ज हुई थी शिकायत

अहमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा ने पिछले सप्ताह सीतलवाड़ और आनन्द के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी थी. उसने आरोप लगाया है कि दोनों ने अपने गैर- सरकारी संगठन सबरंग ट्रस्ट के जरिये 2008 से 2013 के बीच कथित रूप से धोखाधड़ी कर केंद्र सरकार से1.4 करोड़ रूपये हासिल किये. कार्यकर्ताओं ने पारगमन अग्रिम जमानत के लिए बुधवार उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था.

इसे भी पढ़ें : गोमिया और सिल्ली विधानसभा चुनाव जून में होना तय ! आजसू दोनों सीट पर अड़ा, क्या लंबोदर महतो के सपने पर फिरेगा पानी

आनन्द जरूरत के अनुसार एजेंसी के समक्ष पेश होंगे : वकील

सीतलवाड़ और आनन्द की ओर से वरिष्ठ वकील मिहिर देसाई ने हाई कोर्ट को बताया कि दोनों अपने बयान दर्ज कराने के लिए शुक्रवार को जांच एजेंसी के समक्ष पेश होने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि आनन्द जरूरत के अनुसार एजेंसी के समक्ष पेश होंगे. सीतलवाड़ दस अप्रैल से 15 मई के बीच भारत से बाहर जा रही हैं. वह लौटकर फिर से एजेंसी के समक्ष पेश होंगे. देसाई ने कहा कि अदालत को उन्हें परागमन अग्रिम जमानत देनी चाहिए ताकि वे नियमित अग्रिम जमानत के लिए उचित अदालत में आवेदन कर सकें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close