न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सात साल बाद रांची में सर्वधर्म सम्मेलन, धर्मगुरुओं ने दिया शांति-अमन का पैगाम, कहाः मानवता के आड़े नहीं आता मजहब

7

News Wing Ranchi, 06 December: 7 साल बाद बुधवार को रांची में सर्व धर्म सम्मेलन का आयोजन वाईएमसीए कांटाटोली में किया गया. सम्मेलन की अध्यक्षता रेव. टी.एस. हंस ने किया. सम्मेलन को संबोधित करते हुये कैथोलिक धर्म प्रांत के विशप तेलेस्फोर बिलुंग ने कहा मानव को जो स्थिर रखता है वह मानवता है. वही ईश्वर के प्रति सच्चा प्रेम है. हमारे जीवन में ऐसी बहुत सारी घटनाएं घटती हैं. जिसमें मानवता की असीम और अटूट दृश्य दिखाई पड़ता है और कुछ ऐसी घटनाएं भी घटती है जो कि मानवता को कलंकित कर देता है. आज जरूरत है दुनिया को मानवता और मानव की सेवा करने कि, जिससे आपसी बैर, द्वेष को समाज में खत्म किया जा सके. उन्होंने कहा कि एक इंसान पिशाच और संत दोनों ही बन सकता है. ईश्वर ने हमें शक्ति दी है कि हम अपना व्यवहार किस तरह से करें. आज हमें अपने जीवन में संपूर्णता की तलाश करनी चाहिए जिससे ह्रदय में मानवता, प्रेम और भाईचारा पनपे.

दुनिया को बचाने के लिए अपने धर्म के साथ दूसरों के धर्म का करें आदरः स्वामी विश्वानंद

स्वामी विश्वानंद जी महाराज ने कहा सभी इंसान सुखी हों, किसी इंसान के मन में कोई दुख ना हो, सभी का विचार अच्छा हो. इस दुनिया को बचाए रखने के लिए जरूरी है कि अपने धर्म के साथ साथ दूसरे धर्म को भी आदर से देखें. अगर हम ऐसा नही करते हैं तो हम कुएं के मेंढक के समान हैं. जिसका जीवन सीमित दायरा में सिमटा हुआ है. कहा कि दुनिया के सभी धर्मों का निचोड़ एक ही है. यह हमें ईश्वर से जोड़ता है. धर्म विभेद करना लोगों की अज्ञानता को दर्शाता है. देश और दुनिया में शांति के लिए यह जरूरी है कि हम धार्मिक भेदभाव ना करें. हम सभी धर्मों का सम्मान करें.

दुनिया का कोई मजहब आपस में भेदभाव नहीं सिखाताः हाजी मौलान अबुल हसन इमाम

हाजी मौलाना अबुल हसन इमाम ने कहा आज जब तमाम समुदाय के लोग एक साथ सर्व धर्म सम्मेलन में बैठे हैं. इस तरह का आयोजन रांची के अमन पसंद इंसानों को एक संदेश देने का काम कर रही है. दुनिया का कोई भी मजहब आपस में भेदभाव नहीं सिखाता. इस धरती में मजहब और धर्म बाद में पैदा हुए हैं. पहले इंसान पैदा हुआ है. इंसानियत को बचाना और दूसरे के दुख को अपना दुख समझना ही मानवता है. मानवता और इंसानियत के बीच कभी भी मजहब आड़े नहीं आती. ईश्वर के सच्चे बंदे कभी भी दूसरे का दुख बर्दाश्त नहीं करते हैं.

silk_park

समाज की तरक्की के लिए आपसी भाईचारा के साथ रहें सभी धर्म के लोगः प्रो. धर्मेंद्र वीर सिंह

गुरुद्वारा प्रबंधक प्रोफेसर धर्मेंद्र वीर सिंह ने कहा कि आज धर्म के नाम पर उन्माद फैलाने का काम सभी धर्मों में ढोंगी लोग कर रहे हैं. उन का कोई मजहब नहीं होता. ऐसे लोग समाज में बैर को फैलाकर अपना निजी स्वार्थ सिद्ध करते हैं, जिससे मानवता शर्मसार हो जाती है. समाज की तरक्की के लिए सभी धर्म के लोग अपसी भाईचारा के साथ रहें. सम्मेलन का आयोजन वाईएमसीए और रोटरी क्लब रांची के संयुक्त तत्वावधान में किया गया. विषय प्रवेश रजनी पुष्पा सिंकु ने किया. धन्यवाद ज्ञापन वाईएमसीए के जनरल सेक्रेटरी चोनस कुजूर ने किया. सम्मेलन में सभी धर्म के लोग शामिल रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: