न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार ने किया सरेंडर, सीएम फडणवीस ने अन्ना को जूस पिलाया,  अन्ना ने अनशन तोड़ा

24

New delhi :  मजबूत लोकपाल और किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग को लेकर 23 मार्च से रामलीला मैदान पर अनशन कर रहे समाजसेवी अन्ना हजारे ने सातवें दिन गुरुवार को अपना अनशन तोड़ा. कहा गया कि मोदी सरकार द्वारा झुकने और उनकी सारी मांगें मान लिये जाने के बाद अन्ना ने अनशन तोड़ा. महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने अन्ना को जूस पिलाकर उनका अनशन तोड़वाया. अन्‍ना की तबीयत बिगडती जा रही थी. बता दें कि इससे पूर्व केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत  और महाराष्ट्र के सीएम  देवेंद्र फडणवीस ने अनशन स्थल पर पहुंचकर अन्ना हजारे को सरकार की तरफ से उनकी मांगें पूरी करने का आश्वासन दिया. इसके बाद ही अन्ना ने अनशन तोड़ने की घोषणा की. 

mi banner add

इसे भी पढ़ें: अरुण शौरी ने चेताया, नरेंद्र मोदी का सत्ता पर कमजोर हो रहा नियंत्रण-शाह का मजबूत, देश को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी

23 मार्च से  रामलीला मैदान में अनशन शुरू किया था

 सर्वविदित है कि लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्तों की नियुक्ति सहित अन्ना हजारे ने विभिन्न मांगों को लेकर 23 मार्च से दिल्ली के रामलीला मैदान में अनिश्रिचत कालीन अनशन शुरू किया था. अन्ना के इस अनशन आंदोलन को भारतीय किसान यूनियन सहित देश के अन्य किसान संगठनों ने समर्थन दिया था. अन्ना ने अनशन शुरू करते हुए कहा था कि जब तक उनके शरीर में प्राण हैं, वह अनशन खत्म नहीं करेंगे. अन्ना के इस अनशन में उनके पुराने सहयोगी अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया शामिला नहीं हुए थे. बता दें कि अन्ना हजारे ने राजनीतिक दलों के लोगों को अनशन से दूर रहने की हिदायत दी थी.

इसे भी पढ़ें:महाराष्ट्र: चूहा घोटाले के बाद चाय घोटाला ! रोजाना 18500 कप चाय पीते रहे सीएम के मेहमान

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

अन्ना ने आंदोलन में शामिल संगठनों से कहा,  धन्यवाद  

अनशन समाप्त करने के क्रम में अन्ना हजारे ने कहा कि सरकार ने किसानों से संबंधित उनकी सभी मांगें मान ली हैं. कहा कि अभी लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त का गठन नहीं हुआ है.  सरकार ने हमसे छह महीने का समय मांगा है. हम उन्हें समय देते हैं. सरकार ने हमारी मांगों को पूरी करने का आश्वासन दिया है.  सरकार ने फसल पर डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य देने की बात मानी है. किसान कर्ज लेकर जो खेती करता है उसका नुकसान होने पर सरकार उसपर 50 प्रतिशत अधिक भुगतान करेगी. महाराष्ट्र के सीएम फडणवीस कह रहे हैं कि वह छह महीने से पहले ही हमारी मांगों को पूरी करने की कोशिश करेंगे. अन्ना ने आंदोलन में शामिल सभी संगठनों को धन्यवाद दिया.  

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: