Uncategorized

सरकार का ‘संकेत’- नहीं होगी सीएस और डीजीपी पर कार्रवाई, विपक्ष जिद पर अड़ा

Ranchi: शोक संदेश के बाद झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की पहले दिन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी. कार्यवाही के बाद सदन को सुचारू रूप से चलाने के लिए सर्वदलीय कार्यमंत्रणा की बैठक बुलायी गयी. बैठक में शामिल विधायकों ने बैठक के बाद जिन बातों को मीडिया में रखा इससे साफ हो गया कि विपक्ष के किसी भी मांग पर सरकार किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं करने जा रही है. इससे ये भी तय माना जा रहा है कि विपक्ष सदन की कार्यवाही को नहीं चलने देगा. भले ही बहुमत वाली ये सरकार बजट सत्र में अपने विधेयकों और बजट को पास करा ले.

दाएं लाश, बाएं लाश तौल रहे हैं रघुवर दासः हेमंत सोरेन 

किसी भी सरकार को शालीन होना चाहिए ना की क्रूर. लेकिन झारखंड में तो सरकार ने क्रूरता की हदों को पार कर दिया है. दाएं लाश, बाएं लाश तौल रहे हैं रघुवर दास. इन बातों को नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन कार्यमंत्रणा की बैठक के बाद मीडिया के सामने रखा. उन्होंने कहा कि राज्यपाल के अभिभाषण के बीच हमने अपनी मांगों को रखा. कहाः सूबे की राज्यपाल काफी संवेदनशील हैं. उन्हें मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए. कहाः राज्य में आदिवासी, पिछड़ों की हालत बहुत खराब है. उनका कोई माई-बाप नहीं है. वो अनाथ हो चुके हैं. आज फर्जी मुठभेड़ करायी जा रही है. थानों की कस्टडी में मौत हो रही है. पुलिस और प्रशासन दोनों के शीर्ष अधिकारी कटघरे में हैं. सीएम खुद सदन में अमर्यादित आचरण करते हैं. सदन के अध्यक्ष को प्रेशर में रखा जाता है. ऐसे तमाम मुद्दे हैं जिनकी वजह से इस सरकार को बर्खास्त कर देना चाहिए. कहाः अगर सरकार हमारी मांगों को पूरा नहीं करती है तो प्रतिपक्ष की बैठक आज होने वाली है. उसमें तय होगा कि आगे की रणनीति क्या होगी.

इसे भी पढ़ेंः रांची : आवास बोर्ड गड़बड़ी मामले में ACB ने मांगी थी एफआईआर की अनुमति, सरकार ने दी IAS को क्लिन चीट

सरकार पर शर्तों को नहीं थोपना चाहिएः सरयू राय

संसदीय कार्य मंत्री सरयू राय ने कहा कि अगर प्रश्नकाल चलने दिया जाये तो सदन को चार नहीं बल्कि पांच बजे तक चलने देने पर किसी को एतराज नहीं है, लेकिन प्रश्नकाल चलने दिया जाना चाहिए. विपक्ष की मांगों पर राय ने कहा कि सरकार पर किसी भी शर्त को थोपना नहीं चाहिए. अगर ऐसा होता है तो विपक्ष ही सरकार हो जाएगा और सरकार विपक्ष. राज्यपाल के अभिभाषण को झूठ का पुलिंदा कहे जाने पर श्री राय ने कहा कि अगर विपक्ष को कोई बात गलत लगती है तो विपक्ष इस बात के ठोस सबूत दे. ऐसे ही हवा में बात नहीं करनी चाहिए.

सदन चलाना है तो पहले बीमारी का इलाज कीजिएः प्रदीप यादव

जेवीएम के विधायक प्रदीप यादव ने कहा कि किसी भी बीमारी को खत्म करना है तो पहले उसका इलाज कीजिए. वो सीएस और डीजीपी पर कार्रवाई की मांग को लेकर इन बातों को मीडिया के सामने रख रहे थे. उन्होंने कहा कि कार्यमंत्रणा की बैठक में सरकार ने विपक्ष के मांग को लेकर किसी तरह की कोई रुचि दिखाई ही नहीं. ऐसे में अब कोई विधायकों का मुंह तो बंद नहीं कर सकता. अपनी मांग को तो विपक्ष सदन में रखने का काम करेगा ही. कहा कि प्रतिपक्ष की बैठक होने वाली है. उसमें आगे की रणनीति तय की जाएगी. राज्यपाल के अभिभाषण के बारे प्रदीप यादव ने कहा कि अभिभाषण सरकार ने तैयार किया था और वो झूठ का पुलिंदा है. कोई भी योजना धरातल पर उतरी ही नहीं है. कहा जा रहा है कि पूरे राज्य में बिजली आपूर्ति का काम हो चुका है. जबकि मेरे ही गांव में बिजली का खंभा अभी तक नहीं लगा है.

इसे भी पढ़ेंः मुख्य सचिव राजबाला वर्मा व डीजीपी डीके पांडेय को हटाने को लेकर विधानसभा के बाहर हंगामा

हमने कोई कार्रवाई तो की और किसी सरकार ने इतना भी नहीं कियाः राधाकृष्ण किशोर

कार्यमंत्रणा की बैठक के बाद सरकार के मुख्य सचेतक राधा कृष्ण किशोर सरकार की तरफ से मीडिया के सामने अपनी बात रख रहे थे. उन्होंने कहा कि बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि जो भी बात विपक्ष उठाना चाहता है या रखना चाहता है वो सदन की नियमावली के तहत रखे. वहीं सीएस पर कार्रवाई पर उन्होंने कहा कि आज से पहले किसी सरकार ने इस मामले पर किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की थी. रघुवर सरकार ने सीएस को नोटिस जारी किया. डीजीपी पर बकोरिया मामले पर कार्रवाई पर कहा कि मामला अभी कोर्ट में है. फिर कैसे कोई उनपर कार्रवाई कर सकता है. कोर्ट का फैसला आने के बाद ही कुछ किया जा सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button