न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकारी दौरा या पीए अंजन की शादी में किराए के विमान से असम गए थे सीएम रघुवर दास !

31

Ranchi: झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर सरकार का असम दौरा और उनके पीए अंजन सरकार की शादी महज संयोग नहीं था. newswing.com को मिले एक पत्र से यह पता चलता है कि सीएम अफसरों के साथ असम गए थे. सीएम व अन्य अफसर किराए के विमान से असम गए थे. सीएम जिस वक्त असम गए थे, उस वक्त झारखंड विधानसभा सत्र चल रहा था. विधानसभा सत्र किसी भी राज्य व सरकार के लिए महत्वपूर्ण होता है. वह भी तब जब बहुत कम दिनों के लिए सत्र आहूत किया गया हो. सीएम के असम दैरे पर सरकारी पीआरडी विभाग की तरफ से कहा गया था कि सीएम असम में झारखंड के आदिवासियों का भला करने और अक्षय पात्र के मॉडल किचन को देखने गए थे. 

इसे भी पढ़ें- 17 फरवरी 2016 को झारखंड इंवेस्टर्स समिट में सरकारी दल के साथ मुंबई गया था सीएम रघुवर दास का बेटा ललित दास

इसे भी पढ़ेंः सीएम के पीए अंजन सरकार की शादी और रघुवर दास का असम दौरा महज एक संयोग !

लोकल प्रोग्राम में हिस्सा लेने गए थे

सीएम रघुवर दास के असम जाने से पहले प्रोटोकॉल के तहत उनके ओएसडी राकेश कुमार चौधरी ने असम के मुख्य सचिव और डीजीपी को एक चिट्ठी लिखा था. चिट्ठी में सीएम रघुवर दास और उनके साथ गए लोगों के रहने और सुरक्षा मुहैया कराने की बात है. चिट्ठी में लिखा है कि सीएम किसी लोकल प्रोग्राम में हिस्सा लेंगे. 

असम के सीएम और डिप्टी सीएम उस दिन असम में ही नहीं थे

palamu_12

ऐसा कोई कानून ही नहीं है जिसके तहत सीएम सरकारी खर्चे पर निजी आयोजनों में जाएं. असम के सीएम सर्वानंद सोनोवाल और डिप्टी सीएम दुलाल बरुआ भी उस उस दिन असम में नहीं थे. तो सवाल यह उठता है कि आखिर सीएम झारखंड के आदिवासी की बात किससे करने गए थे. वहीं आदिवासी मामले के विभाग के अधिकारी सीएम के दौरे में साथ क्यों नहीं थे. अक्षय पात्र मध्याह्न भोजन से जुड़ा मामला है. लेकिन शिक्षा विभाग के सचिव या कोई अन्य अफसर सीएम के साथ नहीं थे.  

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड पड़ताल : सरकार ने जिसे बताया SIBICS कंपनी का एमडी उसने कहा यह मेरी कंपनी नहीं

अक्षयपात्र का किचन जमशेदपुर में भी है
कैबिनेट की बैठक में अक्षयपात्र को रांची जिले में एक रुपए में 62.26 एकड़ जमीन दी जा चुकी है. वहां अक्षयपात्र का मॉडल किचन लगना है. अक्षयपात्र एक एनजीओ है. इस एनजीओ का एक मॉडल किचन जमशेदपुर में भी लगा हुआ है. ऐसे में सवाल ये उठता है कि आखिर अक्षयपात्र का मॉडल किचन देखने के लिए सीएम और उनकी रिश्तेदारों के साथ सीएम के करीबी अधिकारियों को असम जाने की क्यों जरूरत पड़ी. आरोपों से घिरा झारखंड सूचना जन संपर्क विभाग ने बकायदा इसकी तसवीर और प्रेस बयान भी जारी किया था.  सभी जमशेदपुर जाकर अक्षयपात्र का किचन क्यों नहीं देखे.

इसे भी पढ़ें : सरकार की कार्य संस्कृति का नमूना : अनुबंधकर्मी को हटाने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ने सचिव को चार बार लिखा पत्र, अब आग्रह करने को हुए मजबूर

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: