न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

समस्तीपुर: सांप्रदायिक दंगों में टूटी मस्जिद की मरम्मत के लिए नीतीश सरकार ने दिये 2 लाख रुपये

56

Patna: रामनवमी जुलूस के दौरान बिहार के समस्तीपुर में हुई सांप्रदायिक हिंसा के दौरान क्षतिग्रस्त हुए मस्जिद और मदरसे की मरम्मत करवाने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फंड की मंजूरी दी है. इसके अलावा सरकार ने नवादा और औरंगाबाद में हुई हिंसा से पीड़ित लोगों के मुआवजे के लिए भी राशि आवंटित की है. बिहार सरकार के गृह मंत्रालय ने गुदरी मस्जिद और जिया-उल-उलूम मदरसा को ठीक कराने के लिए बुधवार को दो लाख 13 हजार 700 रुपये की मंजूरी दी है.

इसे भी पढ़ें: जेल में ही गुजरेगी ‘टाइगर’ की एक और रात, सलमान की जमानत पर शनिवार को आयेगा फैसला

रामनवमी जुलूस के दौरान बिहार में कई जगहों पर हिंसा भड़की थी. सरकार ने औरंगाबाद में हुई हिंसा के पीड़ित लोगों के मुआवजे के लिए भी 25 लाख रुपये की राशि आवंटित की है. यहां कई दुकानें जलकर खाक हो गई थी. सरकार ने नवादा हिंसा प्रभावित लोगों के मुआवजे के लिए भी आठ लाख 50 हजार रुपये की मंजूरी दी है.

इसे भी पढ़ें:ऑनलाइन मीडिया पर होगी सरकार की नजर, 10 सदस्यीय कमेटी का किया गठन

गौरतलब है कि हनुमान जयंती से ठीक पहले बिहार के नवादा में बंजरंगबली की मूर्ति क्षतिग्रस्त करने के बाद हिंसा भड़क उठी थी. इससे पहले भागलपुर, मुंगेर, समस्तीपुर, नवादा और औरंगाबाद में भी माहौल बिगड़ा था. नीतीश सरकार ने इनमें से तीन जिलों के हिंसा प्रभावित लोगों के लिए मुआवजा जारी किया है, जिसके बाद राजनीतिक विवाद उठ गया है.

इसे भी पढ़ें:CWG 2018: संजीता ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड, वेट लिफ्टिंग में तीसरा पदक

फैसले के बाद सियासत तेज
बिहार सरकार के इस फैसले के बाद सियासत तेज हो गई है. समस्तीपुर के जिला बीजेपी अध्यक्ष सुमिरन सिंह ने बिहार सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि हिंसा के दौरान दोनों समुदाय के लोग प्रभावित हुए हैं, लेकिन सिर्फ एक ही समुदाय के लोगों को मुआवजा देना दुर्भाग्यपूर्ण है. गौरतलब है कि गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास ही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: