न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सड़क हादसों में चली जाती हैं 2,31000 जानें, रोकथाम के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित सड़क योजना लाने की तैयारी

9

Kumar Gaurav

Ranchi, 30 November: लगातार हो रही सडक दुर्घटनाओं को ध्यान में रखकर भारत सरकार के सडक परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय हादसों को कम करने के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित सडक योजना लाने पर विचार कर रही है, इसके लिए मंत्रालय ने लगभग पूरी तैयारी कर ली है. इस योजना के माध्यम से उक्त स्थल जहां आए दिन दुर्घटना घटती है उसको चिन्हित कर रोड इंजीनियरिंग और बेहतर डिजाइन के माध्यम से उसे कम करने की योजना है. सरकार इसके माध्यम से हिल रोड पर रेलिंग बनवाने की भी प्लानिंग कर चुकी है.

आईआईटी से भी ली जा रही मदद

इस योजना को पूर्णत सफल बनाने में सरकार कोई कसर नहीं छोडना चाहती है. इस योजना के लिए वे टेक्नोलॉजी का भी भरपूर इस्तेमाल करना चाह रही है, जिसके तहत आईआईटी के मदद से हील रोड्स के लिए स्पेशल रिफलेक्टर का निर्माण करवाएगी, साथ ही तीखे मोड को व्यवस्थित करने के लिए फिर से डिजाइन तैयार की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः 108 एंबुलेंस सर्विस चलाने वाली कंपनी ब्लैकलिस्टेड, स्वास्थ्य मंत्री को नहीं थी जानकारी, अब दिया जांच कर कार्रवाई का आदेश

राज्य सरकार से पहले ही  डाटा ले चुका है मंत्रालय

मंत्रालय हरेक राज्य सरकारों से पहले ही राज्यमार्ग में उपस्थित खतरनाक घाटियों के डिटेल्स और डाटा पहले ही एकत्रित कर चुकी है. इस योजना के लिए सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय पहले ही स्वीकृति दे चुकी है. इसमें प्रयुक्त होने वाली सारी राषी सेंट्रल रोड फंड से ली जाएगी.

यह भी पढ़ेंः Newswing Probe-04: पीवीयूएनएल को जब बंद करने का फैसला लिया गया, तब फायदे में थी कंपनी

हर साल सड़क दुर्घटनाओं में 2 लाख 31 हजार लोगों की जाती है जान

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की एक रिपोर्ट के माध्यम से एक साल में देशभर के करीब 2 लाख 31 हजार लोगों की जानें सडक हादसों में चली जाती है. इस योजना के माध्यम से 2020 तक सरकार इस आंकडे को कम करना चाहती है.

सड़क हादसे के बाद लगने वाले जाम से होता है करोड़ों का नुकसान

नेशनल हाईवे के आसपास कई गांव बसे हैं इस वजह से सडक हादसों में लोकल लोगों की ही जान चली जाती है. इसके एवज में वे घंटों सड़क जाम कर देते हैं और मुआवजे की मांग करते हैं. लगातार घंटों जाम होने की स्थिति में लाखों के राजस्व का भी नुकसान हो जाता है साथ ही परेशानियों का कोई तौल नहीं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: