न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सड़क-पानी है वार्ड-20 के कई इलाकों की प्रमुख समस्या, पार्षद ने कहा- काम जारी है दूर हो जायेगी समस्या

37

Ranchi : नगर निगम चुनाव को देखते हुए जनता अपनी समस्याओं को लेकर मुखर है. इसी कड़ी में जब वार्ड संख्या-20 में न्यूजविंग ने सर्वेक्षण किया तो इस वार्ड के कई क्षेत्रों में लोगों ने पानी और सड़क को प्रमुख समस्या बताया. जबकि इन इलाकों में सफाई व्यवस्था को बहुत ठीक नहीं कह सकते हैं. इनमें पाहन कोचा, धोबी घाट, वर्द्धमान कंपाउंड शामिल है.

इसे भी पढ़ें – वार्ड-19 में सड़कों पर बजबजाता है नालियों का पानी, सड़क भी समास्या

सड़क भी जर्जर, और पानी नहीं मिलता है

धोबी घाट की रहनी वाली पुष्पा देवी कहती हैं कि सड़क बहुत पहले बनी थी, जो अब हर जगह से खराब हो गयी है. पार्षद इसका हाल देखकर गए, पर कुछ हुआ नहीं है. सप्लाई वाटर भी नहीं है. एक चापाकल है, जिसपर लगभग सौ घर निर्भर है. गर्मी के दिनों ये भी सूख जाता है. रोहित कुमार कहना है कि साफ-सफाई भी हमेशा नहीं होता है, जिसके कारण नालियों का पानी सड़क पर बहने लगता है.

इसे भी पढ़ें – वार्ड-14 की जमीनी सच्चाई : गोसाई टोली जल संकट से त्रस्त, सफाई व्यवस्था का खस्ताहाल

नाम का है बोरिंग वाटर

वर्द्धमान कंपाउंड के संजीव सिंह का कहना है कि यहां पानी की समास्या हमेशा रही है, गर्मी के दिनों ये परेशानी और बढ़ जाती है. पार्षद ने सही ध्यान नहीं दिया. सुभाषचंद्र विजय का कहना है कि पानी की परेशानी को देखते हुए इन जगहों पर निगम ने बोरिंग वाटर लगाए, पर कुछ दिनों के बाद से ही वो भी खराब पड़े हुए हैं. पार्षद से इसकी शिकायत की गई, बोरिंग वाटर खराब है, पर अभी तक ठीक नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें – वार्ड-17 : सड़क की समस़्या के साथ बोरिंग वाटर में पाया जाने वाला आर्सेनिक बना जी का जंजाल 

पार्षद का पक्ष

पार्षद श्रवण कुमार महतो का कहना है कि सड़क, पानी और सफाई सभी तरह के काम हुए हैं, हमारे वार्ड में. धोबी घाट की सड़क खराब है. इसे भी दो करोड़ की लागत से बनाया जायेगा. टेंडर प्रक्रिया का काम हो गया, जल्द निर्माण कार्य शुरू हो जायेगा. उन्होंने कहा कि अपने कार्यकाल में हर काम करने का प्रयास किया. अब इसका फैसला चुनाव में जनता करेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: