न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

सचिव से भी ज्यादा सैलरी विभाग के कंसल्टेंट्स को, मार्च तक का एडवांस वेतन भी ले चुकी है कंपनी, लेकिन विभाग के किसी काम के नहीं

30

Akshay Kr. Jha

eidbanner

Ranchi, 04 November: सरकारी विभागों में अच्छे से काम हो इसके लिए सरकार ने प्राइवेट कंसल्टेंट की मदद लेनी शुरू की. विचार किया कि एक प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट तैयार की जाए. ये यूनिट विभाग को डीटेल रिपोर्ट देने के अलावा सुझाव भी देने का काम करती है. फिलहाल ऐसे प्राइवेट यूनिट से चार विभाग मदद ले रहे हैं. लेकिन जब आप इनके मामूली काम के बदले इन्हें मिलने वाली सैलरी के बारे में जानेंगे तो आपके होंश उड़ जाएंगे. इन्हें जितनी सैलेरी मिलती है, उतनी सैलेरी सचिव स्तर के अधिकारी को भी नहीं मिल पाती. वहीं काम की बात करेंगे तो एक विभाग के अभी तक चार करोड़ रुपए सैलेरी पर खर्च करने के बाद भी यूनिट की तरफ से ऐसी एक भी रिपोर्ट नहीं मिली है, जिससे विभाग में किसी तरह का सुधार हुआ हो, या फिर किसी तरह की कोई मदद मिल सका हो.

जानें इस कंपनी के बारे में

NICSI में सूचीबद्ध (Impanel) तमाम कंपनियों में से एक कंपनी है PWC (Price Waterhouse Cooper). PWC  कंपनी पीएमयू (प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट) के तौर पर झारखंड सरकार के कल्याण विभाग, उच्च तकनीक, नगर विकास और श्रम विभाग में अपनी सेवा दे रही है. ये करीब दस लोगों की टीम है. विभाग में काम कर रहे दूसरे सरकारी कर्मचारियों को वेतन मिले ना मिले. यूनिट को मार्च 2018 तक का वेतन एडवांस में दिया जा चुका है. सिर्फ एक विभाग की बात करें तो छह महीने में यूनिट के कर्मियों को सैलेरी के तौर पर 3.48 करोड़ रुपए भुगतान किया जा चुका है. विभाग से पूछे जाने पर यूनिट की तरफ से किसी तरह की कोई उपलब्धि दर्ज नहीं करायी गयी.    

यह भी पढ़ेंः रघुवर राज में ब्यूरोक्रेट्स को नहीं भा रहा झारखंड, छोड़कर जा रहे राज्य

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

सरकार का कितना हो रहा है खर्च

एक विभाग के लिए काम करने वाली PWC पीएमयू में दस लोग हैं. सबसे ज्यादा टीम लीडर को 2,79,591 लाख रुपए प्रति महीने सैलेरी दी जा रही है. जो कि किसी सचिव को मिलने वाली सैलेरी से काफी ज्यादा है. दूसरे नंबर पर तैनात अधिकारी को 2,47,330.50 लाख रुपए प्रति महीने दी जा रही है. इनकी संख्या पांच हैं. और तीसरे नंबर के अधिकारी को 1,72,056 लाख रुपए प्रति महीने दी जा रही है. इन सभी दसों कर्मियों का तीन महीने का वेतन 76,05,413 लाख रुपए है. इतना ही नहीं PWC कंपनी को एडवांस में मार्च तक की सैलेरी 2.72 करोड़ रुपए दी जा चुकी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: