न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संसद से सचिन-रेखा की विदाई, 6 सालों में रेखा ने नहीं पूछा एक भी सवाल

19

New Delhi: क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर और बेहतरीन अदाकारा रेखा बतौर राज्य सभा के मनोनीत सदस्य अपना कार्यकाल पूरा कर रहे हैं. संसद में राज्यसभा से रिटायर हो रहे 85 सांसदों के लिए विदाई समारोह रखा गया. हालांकि इस दौरान भी ना तो रेखा और ना ही सचिन को संसद की बेंच पर नहीं देखा गया.  संभव है कि बीते 6 वर्षों के उनके कार्यकाल की तरह इस मौके पर भी दोनों मनोनीत सदस्यों की क्रिकेट या फिल्म में व्यस्तता की कोई मजबूरी हो. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि अपने 6 साल के कार्यकाल के दौरान दोनों ने संसद के हुए सभी सत्रों में महज एक या दो दिन सदन में मौजूद रहे. यह मौजूदगी इसलिए भी रहे जिससे उनकी राज्यसभा सदस्यता लगातार बनी रहे.

इसे भी पढ़ें:राज्यसभा : विदाई समारोह में मोदी ने कहा,  आप संसद से जा रहे हैं, लेकिन आपके लिए पीएमओ के दरवाजे हमेशा खुले रहेंगे

रेखा ने 6 सालों में नहीं पूछा एक भी सवाल

पिक

राज्यसभा वेबसाइट पर मौजूद आंकड़ों को देखें तो 6 साल के कार्यकाल के दौरान रेखा ने एक भी सवाल नहीं पूछा. दरअसल जब कोई सांसद सदन में सवाल पूछता है तो उसका जवाब केन्द्र सरकार द्वारा दिया जाता है और उस सवाल-जवाब को संसद के रजिस्टर में दर्ज कर लिया जाता है और साथ ही उसे राज्यसभा की वेबसाइट पर अपडेट कर दिया जाता है. हालांकि ऐसा नहीं है कि संसद की तरफ से रेखा को सदन के कामकाज में शामिल करने की कोई पहल नहीं की गई. रेखा को सितंबर 2016 से फूड, कंज्यूमर अफेयर्स और पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन की समिति में बतौर सदस्य शामिल किया गया. इस समिति में रेखा के किसी तरह के योगदान का ब्यौरा संसद के पास नहीं है.

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा का मौजूदा गणित : 88 फीसदी करोड़पति सांसदों के हाथ में गरीब जनता का भाग्य

फिल्मी दुनिया में रेखा हमेशा सुर्खियों में रहीं. लेकिन राज्यसभा के उनके कार्यकाल के दौरान कभी संसद में उनके नाम का जिक्र भी नहीं किया गया. जिक्र होता भी क्यों जब उन्होंने कभी भी सांसद की भूमिका में कुछ करने की कोशिश ही नहीं की. संसद में सवाल पूछने के अलावा सांसद द्वारा कोई बिल लाना उसकी जिम्मेदारी का अहम हिस्सा है. लेकिन रेखा ने अपने पूरे कार्यकाल में एक भी बिल संसद में पेश नहीं किया.

6 साल केवल सदस्यता बचायी

रेखा की सदन में मौजूदगी का आंकड़ा बता रहा है कि सभी मनोनीत सदस्यों में उनकी अटेंडेंस सबसे खराब रही है. उनके कार्यकाल में अगस्त 2017 तक हुए संसद के कुल 373 सिटिंग्स में वह 18 सिटिंग्स में शामिल रहीं. यानी पूरे कार्यकाल के दौरान उनकी कुल अटेंडेंस महज 5 फीसदी रही. रेखा ने सिर्फ एक बार सदन के सत्र में शामिल न होने के लिए एप्लीकेशन दी और न शामिल हो पाने की वजह फिल्म में काम करने की मजबूरी बताई. हालांकि कुछ सत्रों से वह बिना एप्लीकेशन दिए गायब रहीं. हालांकि रेखा ने अपने कार्यकाल के दौरान इतनी सावधानी बरती कि उनकी सदस्यता पूरे कार्यकाल तक बनी रही. संसद के नियम के मुताबिक यदि कोई सांसद संसद के कामकाज से लगातार 60 दिनों तक बिना सूचना गायब रहता है को उसकी सदस्यता खत्म किए जाने का प्रावधान है. लेकिन रेखा की अटेंडेंस कभी भी 60 दिन के इस नियम के खिलाफ नहीं गई और उन्हें पूरे कार्यकाल तक सांसद की सुविधाएं मिलती रही.       

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा चुनाव की जीत के बाद यूपीए बना रहा है रणनीति, झारखंड लोकसभा में गठबंधन कर बीजेपी को घेरने की तैयारी

राज्यसभा सांसद के तौर पर सचिन के 6 साल

पिक

संसद में सवाल पूछने के मामले में सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड रेखा से बहुत बेहतर है. रेखा के शून्य सवालों के जवाब में सचिन के रिकॉर्ड में 22 सवाल दर्ज हैं जिनका ब्यौरा राज्यसभा की वेबसाइट पर शामिल किया गया है. उनके सवाल रेलवे नेटवर्क के इलेक्ट्रिफिकेशन, न्यू एजुकेशन पॉलिसी में स्पोर्ट्स को बतौर विषय शामिल करना और रेलवे सुरक्षा जैसे विषयों पर केन्द्रित रहे. सचिन के इन सवालों के जवाब में केन्द्र सरकार की तरफ से योगा और स्पोर्ट्स को स्कूल सब्जेक्ट बनाने और स्पोर्ट्स को कंपल्सरी सब्जेक्ट के उनके सवालों का जवाब भी दिया गया. सचिन के जिन सवालों के जवाब सरकार द्वारा दिए गए उन्हें सचिन ने दिसंबर 2015 में पूछे थे. संसद की तरफ से उन्हें भी इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से जुड़ी समिति का 2016 में सदस्य बनाया गया था हालांकि इस समिति में उनके योगदान का ब्यौरा संसद ने जारी नहीं किया है. वहीं उनके कार्यकाल के दौरान राज्यसभा में उनके नाम पर भी कभी कोई चर्चा नहीं की गई.

इसे भी पढ़ें: रामनवमी पर हुई हिंसा को लेकर केंद्र ने पश्चिम बंगाल सरकार से मांगी रिपोर्ट

7 फीसदी रहा सचिन का अटेंडेंस

संसद में अटेंडेंस के मामले में भी सचिन की अटेंडेंस रेखा जितनी खराब नहीं थी लेकिन उनकी अटेंडेंस को अच्छा भी नहीं कहा जा सकता. सचिन के कार्यकाल में अगस्त 2017 तक संसद के कुल 373 सिटिंग्स में वह 25 सिटिंग्स में शामिल रहे हैं. यानी सचिन की अटेंडेंस कुल 7 फीसदी रही. रेखा की तर्ज पर सचिन ने भी अपने कार्यकाल के दौरान इतनी सावधानी बरती कि उनकी सदस्यता पर कभी खतरा नहीं पैदा हुआ.

इसे भी पढ़ें:फिर नहीं होगी महात्मा गांधी की हत्या की जांच, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

लेकिन जहां तक संसद में किसी सांसद की जिम्मेदारी का सवाल उठता है तो दोनों ने अपने कार्यकाल के दौरान सवाल पूछना, जवाब देना और कानून बनाने के काम को कोई तरजीह नहीं दी. क्या दोनों को जिसलिए 6 साल पहले मनोनीत कर संसद भेजा गया वह मकसद पूरा हुआ?

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: