न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संथाल के लिए जहर है कि प्यार है तेरा चुम्मा, बीजेपी ने पूछा जेएमएम से

61

NEWS WING

Ranchi, 11 December: राजनीति में दो विरोधी पार्टियों के बीच किस बात को लेकर बहस हो, ये तय नहीं होता. लेकिन, मामला चुंबन हो तो ताज्जुब जरूर होता है. झारखंड में फिलहाल चुंबन को लेकर राजनीति काफी गर्म है. मामले ने इतना तुल पकड़ा हुआ है कि सूबे की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को प्रेस वार्ता कर इसे राजनीति एंगल देते हुए पूरी घटना की कड़ी निंदा करनी पड़ी. दरअसल नौ दिसंबर की रात पाकुड़ जिले के लिट्टीपाड़ा थाना क्षेत्र के ताल पहाड़ी डुबरिया गांव में सिदो-कानू मेले का आयोजन किया गया था. मेले के आयोजक लिट्टीपाड़ा विधायक साइमन मरांडी ने चुंबन प्रतियागिता का आयोजन कराया. आयोजन के दौरान स्टीफन मरांडी भी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : पाकुड़ : सिद्धो कान्हू मेला में चुम्‍बन प्रतियोगिता का आयोजन, पहाड़िया समाज के लोगों ने लिया हिस्सा (देखें वीडियो)

ईसाई विधायक और चर्च मिशनिरयों की है साजिशः हेमलाल मुर्मू

जिस संथाल संस्कृति में महिला और पुरुष हाथ तक नहीं मिलाते. डोबो जोहार (बड़ों को मुट्ठी बांध कर और सर झुका कर अभिनंदन करना) जिस संस्कृति की पहचान है. उसे ईसाई विधायक और मिशनरियां मिल कर शर्मसार करने पर तुली हुई है. मामले पर बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष हेमलाल मुर्मू ने सीधा हमला ईसाई विधायक साइमन मरांडी और मिशनरियों पर निशाना साधा. कहा- ये सभी मिल कर संथाल को संथाल नहीं बल्कि रोम और येरूसलम बनाना चाहते हैं. किसी मेले में चुंबन प्रतियोगिता कराना नारी सशक्तिकरण को शर्मसार करने की साजिश है. इस घटना की जितनी भी निंदा की जाए वो कम है. सोशल मीडिया में वाइरल इस सच को देख कर लोग हतप्रभ हैं. यहां तक कि प्रतियोगिता के दौरान मौजूद दर्शक भी अपमानित महसूस कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : दारू-दारू हुई झारखंड की राजनीति- जेएमएम विधायकों को खुलवानी है अपने घर में शराब दुकान तो लिस्ट बना कर दें: बीजेपी, 12 दिसंबर को बियर लेकर जाऊंगा विधानसभा, सीएम को करूंगा गिफ्टः जेएमएम

संथाल को ईसाई स्थान बनाने की कोशिश

श्री मुर्मू ने कहा कि बाहर से पैसा लाकर मिशनरियां ईसाई विधायक के साथ मिलकर इसी तरह का घटिया काम कराने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि मेले के आयोजक दोनों विधायक और जिला अध्यक्ष भी वहीं मौजूद थे. ऐसा किया जा रहा है जैसे संथाल को ईसाई स्थान बनाने की कोशिश हो रही हो. चर्च के लोग ईसाई और गैर-ईसाई आदिवासी के बीच गहरी खाई तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं. श्री मुर्मू ने कहा कि दोनों विधायकों को गांव के मांझी यानी मुखिया से माफी मांगनी चाहिए. अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो दोनों विधायकों को क्षेत्र में बहिष्कार जारी रहेगा. कहा कि ये मामला मैं विधानसभा में उठाऊंगा. स्पीकर से मांग करूंगा कि दोनों विधायकों को पद से निलंबित किया जाए.

आयोजकों से पूछा जाए, मुझसे नहीं : स्टीफन मरांडी

लिट्टीपाड़ा में सालों से सिदो-कानू मेले का आयोजन हो रहा है. मेरे रहते वहां ऐसा कुछ नहीं हुआ था. मैं वहां एक वक्ता के रूप में गया था. इस मामले में जो भी सवाल करना है आयजकों से किया जाए. मुझे मामले की जानकारी है. लेकिन किसके कहने पर चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन हुआ, यह नहीं पता. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: