न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शौचालय घोटाले का मास्टर माइंड विनय कुमार सिंह गिरफ्तार

20

News Wing
Patna, 29 November: पटना पुलिस ने शौचालय घोटाले का मास्टर माइंड व पीएचईडी में कार्यपालक अभियंता विनय कुमार सिंह को गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है. एसएसपी मनु महाराज ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि पटना पुलिस ने उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले से शौचालय घोटाले के मास्टरमाइंड अभियंता विनय कुमार सिंह को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही आदि शक्ति सेवा संस्थान के संचालक उदय सिंह को भी पटना पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

यह भी पढ़ें: बिहार: शौचालय घोटाले में नौ अन्य लोग गिरफ्तार, रोकड़पाल पूरे खेल का है मास्टरमाइंड

21 लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी

अब तक इस मामले में कुल 21 लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. मालूम हो कि शौचालय घोटाला के मास्टरमाइंड पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता विनय कुमार सिंह और रोकड़पाल बिटेश्वर प्रसाद हैं. इन दोनों ने ही योजना बनायी और शौचालय निर्माण की 14 करोड़ 37 लाख की राशि गबन कर ली. घोटाले के इस खेल में एनजीओ आदिशक्ति सेवा संस्थान का सहारा लिया गया. कार्यपालक अभियंता विनय के निर्देश पर बिटेश्वर ने एनजीओ आदि शक्ति सेवा संस्थान बनवाया और फिर इसके बाद शौचालय के नाम पर पैसा आदि शक्ति सेवा संस्थान के खाते में डाला जाने लगा.

यह भी पढ़ें: बिहारः शौचालय घोटाला का मास्टरमाइंड तेलंगाना से गिरफ्तार

silk_park

कौन-कौन हुए गिरफ्तार

1. पीएचईडी का कार्यपालक अभियंता विनय कुमार सिन्हा: घोटाले का मास्टरमाइंड
2.एसबीआइ की मुख्य शाखा के डिप्टी मैनेजर शिवकुमार झा: बिना हस्ताक्षर वाले सरकारी खाते के चेक से एनजीओ के खाते में राशि ट्रांसफर करना.
3. पीएचईडी के रोकड़पाल बिटेश्वर प्रसाद सिंह: सरकारी योजना की राशि को एनजीओ के खाते में जमा कराना.
4.पीएचईडी की डाटा एंट्री ऑपरेटर प्रीति भारती: फर्जी लाभुकों की सूची को कंप्यूटर में एंट्री कर आर्थिक लाभ पाना.
5. मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान के सचिव मनोज कुमार: शौचालय निर्माण की राशि को संस्था के खाते में जमा कराना.
6. मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान की कोषाध्यक्ष प्रमिला सिन्हा: शौचालय निर्माण की राशि को संस्था के खाते में जमा कराना.
7.मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान की अध्यक्ष बॉबी कुमारी: शौचालय निर्माण की राशि को संस्था के खाते में जमा कराना.
8. बॉबी कुमारी के पति प्रवीण कुमार शर्मा: पत्नी के जुर्म में साथ देना और साक्ष्य छुपाना. 
9. मनोज का भाई कन्हैया कुमार: भाई के जुर्म में साथ देना और पुलिस को गुमराह करना.
10. प्रमिला का बेटा सुरक्षित कुमार: मां के जुर्म में साथ देना और साक्ष्य छुपाना.
11. मनोज का सहयोगी रोशन कुमार: सरकारी योजना की राशि का गलत लेखा-जोखा रखना.
12. आदि शक्ति सेवा संस्थान की सचिव सुमन सिंह उर्फ रीता कुमारी: सरकारी योजना की राशि को संस्था के खाते में जमा कराना.
13. आदि शक्ति सेवा संस्थान का अध्यक्ष उदय कुमार: सरकारी योजना की राशि को संस्था के खाते में जमा कराना.
14. सुमन के पति दिवाकर सिंह उर्फ दीपक राज: घोटाले की राशि को अपने खाते में जमा कराना और पत्नी को सहयोग देना.
15. पीएचईडी कार्यालय में डाटा एंट्री ऑपरेटर तारकेश्वर कुमार: प्रखंड समन्वयक द्वारा दी जारी सूची को कंप्यूटर में फीड करना.
16. पीएचईडी के क्लर्क राजेश कुमार: कमीशन लेकर वरीय पदाधिकारी की कुकृत्य में साथ देना.
17. बिहटा का प्रखंड समन्वयक संजय कुमार: लाभुकों की नकली लिस्ट तैयार करना.
18. मनेर का प्रखंड समन्वयक दिनेश कुमार: लाभुकों की नकली लिस्ट तैयार करना.
19. दनियावां का प्रखंड समन्वयक दर्वेश कुमार: लाभुकों की नकली लिस्ट तैयार करना.
20. फतुहा का प्रखंड समन्वयक सुनील प्रसाद: लाभुकों की नकली लिस्ट तैयार करना.
21. नौबतपुर का प्रखंड समन्वयक अभय चंद्र भारती: लाभुकों की नकली लिस्ट तैयार करना.

यह भी पढ़ें: बिहार शौचालय घोटाला :SIT की बड़ी कार्रवाई, बक्सर से बैंक मैनेजर को किया गिरफ्तार

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: