न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शादी में बजा डीजे-बैंडबाजा, तो निकाह नहीं पढ़ायेंगे काजी

65

देवबंद के काजी ने कहा- जहां डीजे चलेगा वहां नहीं करवाएंगे निकाह

Saharanpur:  निकाह में बैंडबाजा और डीजे बजाने को लेकर यूपी के देबबंद के काजी मुफ्ती अजहर हुसैन ने अजीबोगरीब बयान दिया है. उनका कहना है कि डीजे, बैंडबाजा बजाना इस्लामिक मुल्यों के खिलाफ है. इसलिए हम इस तरह की शादियों का बहिष्कार करेंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि अगर निकाह के पहले डांस और गाना बजता है और काजी को इस बारे में जानकारी नहीं है तो फिर यह अलग मामला है.

इसे भी पढ़ें:बॉम्बे हाइकोर्ट का एेतिहासिक फैसला, कहा- प्रेम संबंधों में सहमति से बना जिस्मानी संबंध बलात्कार नहीं

रविवार को एक बैठक में निकाह पढ़ाने वाले उलमा ने फैसला लिया कि वह उन विवाह समारोह में निकाह नहीं पढ़ाएंगे जहां डीजे और बैंडबाजे बजने के साथ-साथ नाच गाना होगा. मुफ्ती सैयद अजहर हुसैन ने कहा कि अक्सर देखा जाने लगा है कि मुस्लिम विवाह समारोह में आनंद लेने के लिए लोगों ने बैंडबाजे और डीजे बजाना शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंरांची: भारत बंद के दौरान समर्थकों का उत्पात, आदिवासी हॉस्टल को खाली करने को निर्देश, पुलिस ने संभाला मोर्चा,  देखें वीडियो

इस्लामिक तहजीब के खिलाफ डीजे

काजी का कहना है कि यह शरई मान्यताओं के खिलाफ तो है ही साथ ही डीजे आदि के बजाने से दूसरे लोगों को भी परेशानी होती है. इतना ही नहीं आजकल शादियों में फिजूलखर्ची बढ़ा दी गई है. यह भी सरासर गलत और इस्लामी उसूलों के खिलाफ है. हमें सादगी से शादियां करनी चाहिए. अपने आवास पर हुई इस बैठक में काजी मुफ्ती अजहर हुसैन देशभर के काजियों से इस फैसले पर सहमति देने की अपील की. उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों के यहां निकाह न पढ़ाया जाए. उन्होंने कहा कि शरीयत में गाना बजाना और नाचना हराम है. मुस्लिम समाज को इस तरह की कुरीतियों से बचना चाहिए.

सोशल मीडिया पर बयान की निंदा

काज़ी के इस बयान पर सोशल मीडिया पर काफी लोगों के बयान आए हैं. कई लोगों ने इस बयान की निंदा की है, तो लोगों ने इस्लाम को लेकर काज़ी से कई तरह के सवाल दाग दिए. कुछ लोगों ने सवाल दागा कि क्या शादी में शेरवानी पहन सकते हैं या वो भी बैन कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ें:हिंसक हुआ भारत बंद प्रदर्शन: एमपी के मुरैना में एक शख्स की मौत के बाद लगा कर्फ्यू, सरकार ने दायर की पुर्नविचार याचिका, शांति की अपील

ज्ञात हो कि इससे पहले भी देवबंद की ओर से कई बार इस प्रकार के बयान या फतवे जारी होते आए हैं, जिसके कारण काफी हंगामा हुआ है. हाल ही में कुछ दिनों पहले दारुल उलूम देवबंद ने मुस्लिम महिलाओं से जुड़ा एक फतवा जारी किया था. फतवे में मुस्लिम महिलाओं का बाजारों में जाकर या कहीं भी गैर-महरम मर्दों से चूड़ियां पहनने को गलत करार दिया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: