न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शराबबंदी कानून के खिलाफ लानी पड़ेगी जन जागरूकता : नीतीश

15

Patna: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि शराबबंदी कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ हालांकि मद्य निषेध विभाग और पुलिस के लोग कार्यवाही कर रहे हैं, लेकिन इस बारे में जन जागरूकता लानी पड़ेगी.

शराब पीना तथा इसका कारोबार करना मौलिक अधिकार नहीं: सुप्रीम कोर्ट

विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा के क्रम में सीतामढ़ी जिले के डुमरा प्रखंड के बखरी गांव में एक जनसभा को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी को चंद लोग इसे शराब पीने की अपनी आजादी से जोड़कर देखते हैं. सुप्रीम कोर्ट का भी आदेश है कि शराब पीना तथा इसका कारोबार करना मौलिक अधिकार नहीं है. सरकार द्वारा इस पर सख्त कार्रवाई की जा रही है.

यह भी पढ़ें: बिहार में शराबबंदी की मांझी ने खोली पोल, कहा- अधिकारी पी रहे हैं शराब, गरीब बन रहे निशाना

शराबबंदी से महिलाओं और युवाओं में खुशी

उन्होंने कहा कि हाल ही में रोहतास जिले और वैशाली जिले में जहरीली शराब पीने से मौत की बात सामने आई है. आप सबसे निवेदन करता हूं कि लोगों को समझाइए. दो नंबरी कारोबारी आपको जहरीली शराब पिलाकर मार देंगे. आप निरंतर बातचीत कर समझाते रहिए, सरकारी तंत्र की शक्ति और आप लोगों के अभियान से इसमें जरुर सफलता मिलेगी. इस बात के लिए भी सावधानी रखनी है कि शराब पीने वाले लोग इसे छोड़ने के बाद नशीले पदार्थ का सेवन न करने लगें. नीतीश ने कहा कि शराबबंदी से महिलाओं और युवाओं में खुशी है. सरकार ने शराबबंदी और नशामुक्ति के खिलाफ और सख्ती बरतने के लिए एक अलग विभाग बनाया है, जिस में पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल एवं अधिकारी होंगे, जो इस कारोबार में लिप्त लोगों पर नजर रखेंगे.

यह भी पढ़ें: बिहार: 14 करोड़ के सांप के जहर पाउडर के साथ तीन गिरफ्तार

देश भर में उठ रही है शराबबंदी के लिए आवाज 

palamu_12

उन्होंने कहा कि बिजली सब जगह पहुंच गई है. हर जगह ट्रांसफार्मर पर एक बोर्ड लगाया जाएगा, जिस पर पुलिस विभाग एवं मद्य निषेध विभाग का नंबर होगा जो भी इधर-उधर करता है, उस नंबर पर फोन कीजिए, आपका नाम उजागर नहीं होगा, लेकिन आपको इस पर क्या कार्यवाही है, इसकी सूचना मिल जाएगी. सरकारी लोग भी लिप्त होंगे तो उन पर भी कठोर कार्रवाई होगी. नीतीश ने कहा कि शराबबंदी के लिए देश भर में आवाज उठने लगी है . बिहार में सामाजिक परिवर्तन पर लोग अध्ययन कर रहे हैं. शराबबंदी के बाद बिहार में क्या बदलाव हो रहा है, इसको लोग देखने-समझने आ रहे हैं.

बिहार के कामों की चर्चा देश और देश के बाहर हो रही है

उन्होंने कहा कि हाल ही में कर्नाटक की टीम आई थी, बिहार के कामों की चर्चा देश और देश के बाहर हो रही है. इतनी बड़ी आबादी में कैसे इतनी मजबूती से लागू किया गया. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से 39 दिन बाद 21 जनवरी 2018 को शराबबंदी, नशामुक्ति के साथ-साथ दहेज प्रथा एवं बाल विवाह के खिलाफ मानव श्रृंखला बनेगी. मैं आपसे अपील करने आया हूं कि आप उसमें शामिल होइये, एक दूसरे का हाथ पकड़कर अपनी भावना का प्रकटीकरण कीजिए. इस बार की मानव श्रृंखला हर ब्लॉक से होते हुए जिलों से जुड़ेगी और फिर पूरा बिहार जुड़ेगा.

जिस शादी में दहेज लिया और दिया जाए ,उस शादी में शामिल मत होइए

उन्होंने लोगों से कहा कि जिस शादी में दहेज लिया और दिया जाए ,उस शादी में शामिल मत होइए, आप मन बना लीजिए तो इसका प्रभाव पड़ेगा. कितनी जगहों पर लोग दहेज लौटा रहे हैं. हम उस शादी में जाते हैं, जो दहेज मुक्त हो और जो दहेज मुक्त शादी कर रहे हैं, हम उन्हें बधाई देने भी जाते हैं. उन्होंने कहा कि बाल विवाह का कानून पहले से बना हुआ है. बाल विवाह के कितने नुकसान हैं. 18 साल से कम उम्र में गर्भधारण करने से मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है. बहुत तरह की परेशानियां होती हैं और जो बच्चे पैदा होते हैं वे बौनेपन के शिकार हो जाते हैं. गृह मंत्रालय द्वारा अपराध के आंकड़े जारी होते हैं, उस अपराध में बिहार का 22वा नंबर है.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: