न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वेल्लोर में शिक्षक की डांट से दुखी चार छात्राओं ने की खुदकुशी

21

News Wing

Vellore, 25 November : तमिलनाडु के वेल्लोर में एक सरकारी उच्चतर माध्यमिक स्कूल की चार छात्राओं ने एक कुएं में कूदकर कथित तौर पर खुदकुशी कर ली. पुलिस ने बताया कि कक्षा में पढ़ाई पर ध्यान नहीं देने के कारण शिक्षकों की ओर से कथित तौर पर डांटे जाने पर चारों छात्राओं ने आपस में तय करके खुदकुशी कर ली. अरक्कोणम कस्बे के पनपक्कम सरकारी उच्चतर माध्यमिक स्कूल की 11वीं कक्षा की छात्राओं ने नंगमंगलम गांव के एक कुएं में कूदकर खुदकुशी कर ली.
दमकल एवं बचाव सेवा कर्मियों ने कल रात कुएं से शवों को निकाल कर उन्हें पोस्ट मॉर्टम के लिए एक सरकारी अस्पताल में भेजा. एक जिला शिक्षा अधिकारी ने आज यहां पत्रकारों को बताया, ‘‘शुरूआती जांच के आधार पर प्रधानाध्यापिका और कक्षा शिक्षिका को निलंबित कर दिया गया है.’’ जिले के एक आला पुलिस अधिकारी ने बताया कि लड़कियों की खुदकुशी की वजह का अभी पता नहीं लगाया जा सका है.

छात्राओं, शिक्षकों से पूछताछ जारी
उन्होंने कहा, ‘‘पुलिसकर्मियों की चार टीमें कक्षा की छात्राओं, शिक्षकों, एवं अन्य से पूछताछ कर रही हैं और जांच पूरी होने के बाद ही खुदकुशी की वजह का पता चल सकेगा.’’ अधिकारी ने कहा कि कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि शुरूआती जांच में खुलासा हुआ है कि कक्षा में पढ़ाई पर ध्यान नहीं देने के कारण 11 छात्राओं को शिक्षकों ने डांटा और कहा कि वे 24 नवंबर को अपने अभिभावकों को स्कूल लेकर आएं.

silk_park

लोगों ने इन लड़कियों को खेत के कुएं की तरफ जाते देखा

अधिकारी ने बताया, ‘‘कल 11 छात्राओं में से सात ने माफी मांगी और शिक्षकों को भरोसा दिलाया कि वे कक्षा में ध्यान देंगी. अन्य चार छात्राओं ने खुदकुशी कर ली.’’ उन्होंने कहा कि माफी मांगने वाली सात छात्राएं भी अपने अभिभावकों को लेकर नहीं आई. खुदकुशी करने वाली चार छात्राओं में से दो सुबह के वक्त स्कूल आई थीं और बाद में परिसर से चली गईं. बाद में वे उन दोनों लड़कियों के साथ चली गईं और वे सब अपने साइकिलों से खेत में गईं. उन्होंने कहा, ‘‘स्थानीय लोगों ने इन लड़कियों को खेत के कुएं की तरफ जाते देखा.’’ वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और जिले के एक अधिकारी ने छात्राओं के शव पर पुष्पमालाएं चढ़ाईं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: