Uncategorized

विश्व कप : भारत सेमीफाइनल में, खिताब से 2 कदम दूर

मेलबर्न : भारतीय क्रिकेट टीम ने गुरुवार को मेलबर्न क्रिकेट मैदान (एमसीजी) पर खेले गए दूसरे क्वार्टर फाइनल मुकाबले में बांग्लादेश को हराकर लगातार दूसरी बार आईसीसी विश्व कप के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। मौजूदा चैम्पियन भारत ने इस जीत के साथ बांग्लादेश से 2007 विश्व कप में मिली हार का हिसाब बराबर कर लिया, जिसके कारण वह ग्रुप स्तर में ही बाहर हो गया था। अब भारत का सामना शुक्रवार को आस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के बीच होने वाले तीसरे क्वार्टर फाइनल मैच के विजेता से होगा। द. अफ्रीकी टीम पहले ही सेमीफाइनल में पहुंच चुकी है। उसे पहले क्वार्टर फाइनल में बुधवार को बीते बार के उपविजेता श्रीलंका को हराया था।

मैन ऑफ द मैच रोहित शर्मा (137) के शानदार शतक और सुरेश रैना (65) की उम्दा पारियों की मदद से भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश के सामने 303 रनों का लक्ष्य रखा लेकिन उसका पड़ोसी देश उमेश यादव (31-4), रवींद्र जडेजा (42-2) व मोहम्मद समी (37-2) की अनुशसित गेंदबाजी के आगे नतमत्सक नजर आया और 45 ओवरों में 193 रन ही बना सका। इस तरह भारत को 109 रनों से जीत मिली।

बांग्लादेश टीम पहली बार विश्व कप के नॉकआउट दौर में पहुंची थी। वह किसी भी हाल में यह मैच जीतकर इतिहास कायम करना चाहती थी लेकिन खिताब बचाने के लिए प्रतिबद्ध दिख रही भारतीय टीम ने उसकी इस मंशा पर पानी फेर दिया। साथ ही साथ भारत ने 2007 विश्व कप में बांग्लादेश से मिली हार का भी हिसाब बराबर कर लिया। बांग्लादेश से हारकर भारत ग्रुप स्तर से बाहर हो गया था।

भारत ने लगातार सातवीं बार इस विश्व कप में विपक्षी टीमों को आउट किया। एक समय जहां भारतीय गेंदबाजों की क्षमता पर सवाल उठ रहे थे, वहीं उन्होंने आज उम्दा प्रदर्शन कर अपनी टीम को विश्व कप में लगातार 11वीं जीत (2011 के 4 तथा 2015 के 7) दिलाई। यही नहीं, यह कप्तान के तौर पर महेंद्र सिंह धौनी की 100वीं जीत है और यह सम्मान हासिल करने वाले वह पहले भारतीय कप्तान हैं।

मैच की बात करें तो भारत की अनुशासित गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण के आगे बांग्लादेश का कोई भी बल्लेबाज अर्धशतक तक भी नहीं पहुंच सका। नासिर हुसैन ने सबसे अधिक 35 रन बनाए जबकि शब्बीर रहमान ने 30 रन जोड़़े। इन दोनों के बीच सातवें विकेट के लिए 50 रनों की साझेदारी हुई, जो इस टीम के लिए सबसे बड़ा योग रहा।

शब्बीर ने इससे पहले मुशफिकुर रहीम (27) के साथ छठे विकेट के लिए 35 रन जोड़े थे। बांग्लादेश की सलामी जोड़ी तमीम इकबाल (25) और इमरुल कायेस (5) ने पहले विकेट के लिए 33 रन जोड़े और अच्छी शुरुआत दिलाई।

इमरुल दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रन आउट हुए जबकि तमीम पारी में तेजी लाने के प्रयास में सीमा रेखा पर लपके गए। इसके बाद महमुदुल्लाह (21) और सौम्य सरकार (29) ने तीसरे विकेट के लिए 40 रनों की साझेदारी की।

बांग्लादेश की टीम इस मैच में कभी भी भारत को टक्कर देती नजर नहीं आई। बल्लेबाजी के दौरान जहां भारत ने 300 रन बनाकर उस पर असीम दबाव डाला वहीं गेंदबाजी के दौरान भारत ने लगातार अंतराल पर बांग्लादेश के विकेट चटकाए और पांच ओवर शेष रहते मैच अपने नाम कर लिया।

भारत ने मेलबर्न में इस विश्व कप में लगातार दूसरी बार 300 से अधिक स्कोर खड़ा किया। इससे पहले उसने अपने दूसरे पूल मैच में द. अफ्रीका के खिलाफ 300 से अधिक रन बनाए थे।

भारतीय बल्लेबाजी के कर्णधार बने रोहित :

इस अहम मैच में रोहित ने एंकर की भूमिका निभाते हुए 126 गेंदों का सामना कर 14 चौैके और तीन छक्के लगाए। विश्व कप में यह रोहित का पहला शतक है। रोहित के साथ चौथे विकेट के लिए 122 रनों की साझेदारी करने वाले रैना ने 57 गेंदों पर सात चौके और एक छक्का लगाया।

रोहित ने शिखर धवन (30) के साथ भी पहले विकेट के लिए 75 और धौनी (6) के साथ पांचवें विकेट के लिए 36 रनों की साझेदारी की। भारत को रोहित और धवन ने सधी शुरुआत दिलाई थी। धवन 50 गेंदों में तीन चौके लगाने के बाद शाकिब अल हसन की गेंद पर स्टम्प कर दिए गए।

रुबेल हुसैन ने अगले ही ओवर में विराट कोहली (3) को चलता कर भारत को दूसरा करारा झटका दे दिया। अजिंक्य रहाणे (19) और रोहित ने तीसरे विकेट के लिए 36 रन जोड़े। रहाणे आज संघर्ष करते दिखे और इसी कारण वह तासकीन अहमद की एक धीमी गेंद को पढ़ने में नाकाम रहे और एक्ट्रा कवर पर शाकिब के हाथों लपके गए।

रहाणे ने 37 गेंदों पर एक चौका लगाया। इसी विकेट के गिरने के बाद रोहित और रैना ने भारत के लिए सबसे बड़ी साझेदारी की। रैना 273 रनों के कुल योग पर मशरफे मुर्तजा के शिकार हुए। इससे पहले उन्होंने हालांकि अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाने की जिम्मेदारी का निर्वहन किया।

रैना की मौजूदगी में ही रोहित ने अपना शतक पूरा किया और फिर उनकी विदाई के बाद अपने बल्ले का मुंह खोला। रोहित ने रुबेल हुसैन और तासकीन की जमकर खबर ली। रुबेल के एक ओवर में उन्होंने दो चौके और एक छक्का लगाया।

तासकीन के ओवर में एक चौका और एक छक्का लगाने के बाद रोहित हालांकि नासिर हुसैन के हाथों लपके गए। यह विकेट 273 रनों के कुल योग पर गिरा।

धौनी 296 के कुल योग पर आउट हुए। अंतिम ओवरों में रवींद्र जडेजा ने तेजी से खेलते हुए 10 गेंदों पर चार चौकों की मदद से नाबाद 23 रन जुटाए। रविचंद्रन अश्विन तीन रनों पर नाबाद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button