न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विरोधी नहीं चाहते कि मैं संसद में देशहित के मुद्दे उठाऊं : शरद

51

New Delhi: जदयू के पूर्व सांसद शरद यादव ने कहा है कि उनके कुछ विरोधी नहीं चाहते हैं कि वह संसद में देशहित के मुद्दे उठा सकें. यादव को हाल ही में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में राज्यसभा की सदस्यता से अयोग्य करार दिया गया था.

इसे भी पढ़ेंः रांची : सनातन कहे जाने पर सरना समाज ने निकाली रैली, पुलिस ने रोका

इसे भी पढ़ें – मुख्य सचिव राजबाला मुश्किल में, आधार से राशन कार्ड जोड़ने का आदेश मामले में UIDAI ने दिया जांच कर कार्रवाई का निर्देश 

शीतकालीन सत्र में भाग लेने की मांगी थी अनुमति

यादव ने शनिवार को कहा कि उनके विरोधी समाज के सभी वर्गों से जुड़े राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को संसद में मजबूती से उठाने से उन्हें रोकने के लिये ये बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं. राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू ने उच्च सदन में उनकी सदस्यता रद्द कर दी थी. जिसके बाद यादव ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर कर संसद के शीतकालीन सत्र में भाग लेने की अनुमति मांगी थी. अदालत ने शुक्रवार को उनकी इस मांग को ठुकराते हुये सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने की अनुमति नहीं दी.

इसे भी पढ़ेंः आजसू एक ऐसी पार्टी जो सत्ता के साथ भी और खिलाफ भी

इसे भी पढ़ेंः देखिये-सुनिये सीएम रघुवर दास ने सदन में विपक्षी विधायकों को कौन सी गाली दी

मुझे रोकने के लिये विरोधी जिम्मेदार हैं

अदालत के फैसले पर यादव ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की. उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘‘संसद की सदस्यता से अयोग्य घोषित करने के मामले में न्यायपालिका के आदेश का सम्मान करता हूं. मैं कहना चाहता हूं कि संसद में समाज के सभी वर्गों से जुड़े मुद्दे मजबूती से उठाने से मुझे रोकने के लिये मेरे विरोधी जिम्मेदार हैं.’’ उल्लेखनीय है कि यादव ने राज्यसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित किये जाने के सभापति के फैसले को दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी है. इसके लिये दायर याचिका में उन्होंने अदालत का फैसला आने तक संसद की कार्यवाही में भाग लेने की भी अनुमित मांगी थी.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: