न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वार्ड-45 में न्यूजविंग की चौपाल : मैदान में 18 उम्मीदवार, 20 हजार की आबादी के बीच समस्याओं की लंबी फेहरिस्त

21

Ranchi : इस बार रांची नगर निगम चुनाव 2013 से अलग होगा. वार्ड संख्या 46 परिसीमन के बाद 45 हो चुका है, और इसी के तहत कुछ इलाके कट गए हैं, तो कुछ जुड़ गए है. 20 हजार की आबादी वाले इस वार्ड में इस बार चुनाव मैदान में 18 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. प्रत्याशियों के वादों और दावों के बीच इस वार्ड की हकीकत यहीं है कि समस्याओं की फेहरिस्त काफी लंबी है.

वार्ड की मूलभूत समस्याएं

हाथीखाना, कुमहार टोली, नाई मुहल्ला, मिस्त्री मुहल्ला, धोबी मुहल्ला, बेलदार और यूनुस चौक से लेकर जैन मंदिर रोड. यह वो इलाका है जो बीते पांच साल से पानी के लिए तरस रहा है. इधर सप्लाई वाटर की व्यवस्था रहकर भी बेकार है. स्थानीय लोगों का कहना है कि सप्लाई वाटर रेगुलर नहीं आता है, और जब आता तो 12 बजे रात में या 2 रात में आता है. जबकि निगम की तरफ से पानी की समस्या को दूर करने के लिए मुहैय्या कराए गए एचवाईडीटी से भी यह इलाका वंचित है. दूसरी समस्या इस वार्ड में गंदगी और जर्जर सड़क है. लोगों के मुताबिक सड़क-नाली नहीं रहने के कारण बरसात में ये गटर में बदल जाता है. इस दौरान लोगों का बाहर तक निकलना दुश्वार हो जाता है. वहीं स्वच्छ भारत अभियान भी यहां दम तोड़ता दिखता है. लोगों का कहना है कि नाली तो नाली जगह-जगह सड़कों पर ही कचरों का अंबार लगा रहता है.

इसे भी देखें- एक अप्रैल से नहीं बढ़ेंगे बिजली के दाम, निकाय चुनाव के बाद पांच गुणा होगा टैरिफ

वार्ड 45

प्रत्याशियों की जुबानी जंग

वार्ड 45 से अपनी जीत को निश्चित बताने वाले उम्मीदार नसीम गद्दी उर्फ पप्पू का कहना है कि पांच साल में इलाके विकास नहीं हुआ है. उन्होंने पार्षद पर आरोप लगाते हुए कहा कि अच्छी सड़क और पानी से लोग वंचित हैं. जनता विकास चाहती है. वहीं दीपक राम के भी सुर ने वर्तमान पार्षद को ही घेरे में लिया. इनका कहना है कि इलाका घूम लीजिए, जनता और तस्वीर बता देगी कि पांच साल में क्या विकास हुआ है. इसी वार्ड के एक अन्य उम्मीदार इमरान रजा ने कहा कि विकास भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है. हर काम में कमीशन के खेल ने विकास को बहुत पीछे धकेल दिया है. जबतक निगम पदाधिकारियों से लेकर प्रतिनिधियों तक कमीशन का आदान-प्रदान खत्म नहीं होता, तबतक विकास की कल्पना बेमानी है.

इसे भी देखें- देश के वन क्षेत्र में 8021 वर्ग किलोमीटर का इजाफा, 13,61,248.21 हेक्टेयर वन क्षेत्र अतिक्रमण के दायरे में

पार्षद को विकास डाटा मालूम नहीं

इस क्षेत्र के वर्तमान पार्षद राजकुमार उर्फ सिंटू अपनी उपलब्धि गिनाते हुए कहते हैं कि मैंने पांच साल में बांग्ला स्कूल, बेलदार मुहल्ला, हाथीखाना समेत कई और जगह सड़क और नाली का निर्माण करवाया है. कितनी लागत और कितने किलोमीटर तक सड़क बनी है” के प्रश्न पर पार्षद का कहना है कि मुझे पता नहीं निगम से डाटा पता करना पड़ेगा. वहीं पानी की समास्या पर उन्होंने कहा कि 15 चापाकल लगवाए हैं, जिसमे दस के आस-पास प्रोपर ऑर्डर में हैं. वहीं इस वार्ड में मिनी एचवाईडीटी एक भी नहीं है. उधर 86 पीएम आवास के लाभुकों में से मात्र दो को आवास का पूरा पैसा मिल पाया है. यही हाल निजी शौचालय के लाभुकों का भी है. इनमें से अधिकतर को राशि की पहली किस्त के बाद आजतक नहीं मिल पाई है. पार्षद कहते हैं कि मैंने पांच साल में 2248 परिवारों का राशन कार्ड बनवाया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: