न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वार्ड-22 : जाम और गंदगी से परेशान हैं अपर बाजार के लोग, पार्किंग की नहीं है व्यवस्था

29

Ranchi : राजधानी रांची का सबसे बड़ा और मशहूर अपर बाजार व्यवसाय का सबसे बड़ा केंद्र माना जाता है. इसके अधितकर गलियां और मुहल्ले वार्ड 22 और 23 में ही आते हैं. लेकिन इन सबके बीच लोग यहां आने से कतराते भी हैं. इसकी वजह यहां की तंग गलियां और सड़कों पर लगने वाले जाम है. जब न्यूजविंग ने वार्ड नंबर 22 का सर्वेक्षण किया तो संकीर्ण सड़कों के अलावा गंदगी का अंबार और बजबजाती नालियां भी सामने आयी. पार्षद और सरकार ने इन्हें इसी हाल में रहने दिया. यहां के निवासी और दुकानदारों का कहना है कि सफाई व्यवस्था इधर कभी वैसी नहीं हुई है, जैसा यहां जरूरी है.

इसे भी पढ़ेंः  NEWSWING EXCLUSIVE: झारखंड की बेदाग सरकार में हुआ 18 करोड़ का कंबल घोटाला, न सखी मंडल ने कंबल बनाये, न ही महिलाओं को रोजगार मिला

इसे भी पढ़ेंः  सरकार को आपके 100 रूपये का भी चाहिए हिसाब, लेकिन उनकी पार्टी के करोड़ों के विदेशी चंदे की नहीं होगी कोई जांच, फैसले पर उठ रहे सवाल

इसे भी पढ़ेंः विकासशील देशों की कैटेगरी से भारत को वर्ल्ड बैंक ने हटाया, अब होगी पाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश और श्रीलंका जैसे देशों की श्रेणी में गिनती

गंदगी का हाल

कचरा

रंगरेज गली, महाबीर चौक, मैकी रोड, सोनार गली की सफाई व्यवस्था पर दीपक कुमार कहते हैं कि यहां रोजाना हजारों लोग खरीदारी के लिए आते हैं, लेकिन एक भी सार्वजनिक शौचालय नहीं है. सागर वर्मा का कहना है कि कचरा का उठाव सही से नहीं होने पर लोग नालियों में कूड़ा फेंक देते हैं. सुनील वर्मा का कहना है कि इस वार्ड की खराब सड़कों को अबतक नहीं बनाया गया. अमरेश कुमार ने कहा कि वार्ड का समुचित विकास ना कर चिन्हित जगहों का ही विकास किया गया है.

इसे भी पढ़ेंः  नगर निकाय चुनाव : उम्मीदवारों की सूची जारी करने में पहले आप-पहले आप, नॉमिनेशन के लिए बचे सिर्फ दो कार्यदिवस

सोनार गली की सबसे बड़ी समस्या जाम है

अपर बाजार में लगने वाले जाम के विषय में दुकानदार अविनाश का कहना है कि इधर की गालियों में सड़क पर ही गाड़ियां खड़ी मिलेगी. साथ ही जगह-जगह कचरे का अंबार है. अविनाश कहते हैं कि जाम लगने का मुख्य कारण है कि यहां जीतने भी दुकान या मकान बनी है, उसमें पार्किंग की कोई व्यवस्था नहीं की गयी है. इसी वजह से अपर बजार में खरीदारी के लिए आने वाले लोग सड़कों पर गाड़ी पार्क कर देते हैं.  इसके अलावा जाम का कारण यहां का अवैध निर्माण भी है. वहीं दिपांकर कुमार का कहना है कि इधर पानी की भी समास्या है. सप्लाई वाटर है, लेकिन रात के 12 बजे पानी देता वो भी रेगुलर नहीं.

नहीं लिया जा सका पार्षद का पक्ष

वार्ड संख्या 22 की वार्ड पार्षद सरीता देवी का जब हमने पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया, जिससे उनका पक्ष नहीं लिया जा सका. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: