न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लालपुर सब्जी विक्रेताओं में भय और आक्रोश साथसाथ, फुटपाथ दुकानदार संघ ने कहा : जारी रहेगी लड़ाई

22

NEWSWING

Ranchi, 09 December : लालपुर सब्‍जी बाजार की समय सीमा को लेकर रांची नगर निगम की सख्‍ती को लेकर रांची फुटपाथ दुकानदार संघ ने शनिवार को सब्‍जी विक्रेताओं को साथ एक बैठक की गई. बैठक में बाजार की समय सीएम 1 बजे तक बढ़ाने के लिए मेयर व डिप्‍टी मेयर की पहल के लिए आभार व्‍यक्‍त किया गया और निर्णय लिया गया कि सब्‍जी बाजार को लेकर लड़ाई जारी रहेगी. इसके लिए रणनीति तय कर अब चरणबद्ध आंदोलन होगा.

इसे भी पढ़ें : सब्जी विक्रेताओं के तेज आंदोलन के आगे झुका निगम, दोपहर एक बजे तक लगा सकेंगे दुकान

दुकानदारों में रांची नगर निगम के प्रति भय और आक्रोश

इस बैठक में मुख्‍य रूप से नेशनल हॉकर फेडेरेशन संघ के राष्‍ट्रीय महासचिव घोष भी शामिल हुए. उन्‍होंने कहा कि फुटपाथ दुकानदारों के लिए सरकार ने 2014 को कानून बनाई. इस विधेयक में स्‍पष्‍ट रूप से फुटपाथ दुकानदारों के तमाम कार्यों का अधिकार टाउन वेंडिंग कमिटी को मिला हुआ है. आज लालपुर बाजार के साथ-साथ पूरी रांची के दुकानदारों में रांची नगर निगम के प्रति भय और आक्रोश है. इसलिए अब जगह के साथ साथ कानून की रक्षा भी करना पड़ा रहा है. सरकार ने हमारे लिए बने कानून का मजाक बना कर रख दी है. इसलिए लड़ाई जारी रहेगी.

इसे भी पढ़ें : सुबह 10 बजे तक ही बाजार लगायें, बाबू 10 बजे तक बोहनी भी नहीं होती (सुनें-देखें सब्जी विक्रेताओं की पीड़ा)

इसे भी पढ़ें : लालपुर सब्‍जी दुकानदारों के पक्ष में आजसू ने किया एक दिन का अनशन

मेयर और डिप्टी मेयर के प्रति किया आभार व्यक्त

शक्तिमान घोष ने रांची की मेयर आशा लकड़ा और डिप्‍टी मेयर संजीव विजयवर्गीय के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया कि उन्‍होंने दोपहर एक बजे तक बाजार लगाने की छूट दी है. साथ ही अनशन स्‍थल पर बैठे आजसू के नेताओं को धन्‍यवाद देते हुए कहा कि फुटपाथ दुकानदारों की लड़ाई में शहर के बुद्धिजीवी और राजनीतिक पार्टियों ने भी हिस्‍सेदारी बढ़ा दी है जो इस सरकार के लिए खतरे की घंटी है. इस बैठक में मुख्‍य रूप से फुटपाथ दुकानदार संघ के अध्‍यक्ष दीपक सिंह, महासचिव अनिता दास ने भी भाग लिया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: