न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

लातेहार : जेल प्रशासन के खिलाफ आवाज उठाने वाले पांच कैदियों का हुआ स्थानांतरण, SP ने बताया रूटीन वर्क

52

News Wing

mi banner add

Latehar, 9 December : बीते महीने नवंबर की 28 तारीख को लातेहार मंडल कारा से रात के तीन बजे  गुप्त रुप से पांच कैदियों को दूसरे जेल में ट्रांसफर कर दिया गया. पांच कैदियों को दूसरे जेल ले जाये जाने से लातेहार मंडल कारा के बाकी कैदियों में दहशत है. वहीं पांच कैदियों को अचानक जल्दबाजी में ट्रांसफर किये जाने पर कई तरह सवाल उठने लगे हैं. जिसपर अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षा की दृष्टि से ऐसा किया गय़ा है.    

इसे भी पढ़ें – सूबे के मुखिया दिव्यांगों के लिए बहाते हैं आंसू और समाज कल्याण विभाग दो साल में भी नहीं बना पाता है नियमावली 

शहर के बीचो-बीच मंडल कारा क्या असुरक्षित है ?  

लातेहार जिला मुख्यालय के बीचो – बीच मंडल कारा लातेहार स्थित है . मंडल कारा के अंदर और बाहर जिला बल के हथियार से लैस और  गृह रक्षा वाहिनी के जवान लाठी – डंडों के साथ हर वक्त पहरा देते रहते हैं. इस जेल में 250 कैदियों को रखने की क्षमता है . लेकिन यहां 500 विचारधीन कैदियों को रखा गया है. साथ ही  इन कैदियों की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों कि पैनी नजर इनपर रहती है और सीसीटीवी से भी कैदियों पर नजर रखी जाती है. वहीं जेल की सुरक्षा व्यवस्था पर को वरीय पदाधिकारी भी समय – समय पर औचक निरीक्षण करते हैं, जिससे स्पष्ट है कि मंडल कारा लातेहार पूरी तरह सुरक्षित है.

अचानक क्यों हुआ पांच विचारधीन बंदियो का स्थानांतरण

दरअसल जेल प्रशासन ने कैदियों के स्थानांतरण को मंडल कारा की सुरभक्षा से जोड़ा है. जबकि इसपर मामला सामने आया है कि, स्थानांतरित किये गये पांचों कैदियों के नेतृत्व में सभी कैदी जेल में मिलने वाले डाईट चार्ट के तहत खाने की मांग कर रहे थे क्योंकि कैदियों को मिलने वाले डाइट में कटौती की जा रही थी और ही बेहतर स्वास्थय सुविधा भी नहीं मिलने की वजह से एक बंदी की मौत भी हुई थी. इससे जेल के अंदर लगातार कैदियों का विरोध और अनशन जारी था. हालांकि एक अधिकारी ने कैदियों से मिलकर उन्हें सुविधाओं पर आश्वस्त भी किया था. लेकिन प्रशासन का वादा पूरा नहीं हुआ और इसके उलट आवाज उठाने वाले पांचों विचाराधीन बंदियो को दूसरे जेल में ट्रांसफर कर दिया गया. जिसस अनय कैदियों में दहशत है.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में स्वास्थ्य, कुपोषण, शिक्षा की स्थिति बदतर, पिछड़े 115 जिलों में झारखंड के 19 जिले शामिल: नीति आयोग

इन पांचों विचाराधीन कैदियों का किया गया है स्थानांतरण

जिन कैदियों को दूसरे जेल में शिफ्ट किया गया है, उनमें माओवादी से सुभाष ठाकुर को घाघीडीह, जमशेदपुर, उमेश यादव को दुमका, पवन गंझू को होटवार, नवीन दास को गिरिडीह और टीएसपीसी से अनसु यादव को हजारीबाग में शिफ्ट किया गया है.   

डेली रूटीन के तहत बदला गया है जेल

वहीं इस मामले पर लातेहार एसपी प्रशांत आनंद ने बताया कि जेल सुरक्षित है और कैदियों का स्थानांतरण करना सुरक्षा का कोई अंग नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह एक रूटीन वर्क है और कई कैदियों को दूसरे जेल में ट्रांसफर किया गया है और इसे कोई गंभीर मुद्दा बनाने की जरूरत नहीं है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: