न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लघु व कुटीर उद्योग से जोड़कर ग्रामीणों को स्वावलंबी बनाना है : सिमडेगा डीसी

68

NEWSWING

Simdega, 09 December : मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम विकास बोर्ड के तत्वावधान में नव चयनित ग्रामीण उद्यमी समन्वयकों का एक दिवसीय व्यवसायिक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन नगर भवन में किया गया. मुख्य अतिथि उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने उपस्थित जिला के ग्रामीण उद्यमी समन्वयकों को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि सरकार गांवो में लघु एवं कुटीर उद्योग के माध्यम से ग्रामीणों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए कृत संकल्पित है. उन्होंने कहा कि गांव में हड़िया, दारू बेच कर अपनी जिविका चला रही महिलाओं को प्राथमिकता देते हुए उस गांव में सुविधा के अनुसार कार्यों का प्रशिक्षण देते हुए उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने का कार्य किया जायेगा. जिले में लाह, बिड़ी पत्ता, ईमली, चिरोंजी का उत्पादन काफी मात्रा में होता है. गांव की संभावनाओं को देखते हुए विकास करना है. सरकार आपके द्वारा उत्पादित फसलों को खरीदेगी. उत्पाद का उचित मूल्य सरकार देगी. क्लस्टर मोड में कार्य करते हुए उत्पादन शक्ति, आमदनी तथा आर्थिक स्थिति और अधिक बेहतर किया जा सकता है. उपायुक्त ने कहा कि जिला प्रशासन आपके साथ खड़ा है. कुछ भी परेशानी आती है तो उसे बतायें ताकि आपको सहयोग हम दे सकें. उपायुक्त ने सभी को मन लगाकर कार्य करने की सलाह दी.  

गांव की कमियों को दूर करने के लिए योजना बनायें

मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम विकास बोर्ड की मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी रेणु गोपीनाथ पणिक्कर ने कहा कि आप सभी ग्रामीण उद्यमियों का समन्वयकों द्वारा गांव का विकास किया जायेगा. आप सभी इसे जिले के अलग-अलग गांव से आते है. इसलिए आप अपने गांव की कमियों को देखे तथा उस कमियों को दूर करने के लिए योजना बनायें. सरकार गांवों के विकास के लिए हर संभव मदद करने के लिए प्रयत्नशील है. आप सभी तय करें कि आपके गांव के आस-पास क्या चाहिये. हम उस गांव में जायेंगे तथा उसकी गांव की आधारभूत संरचनाओं को देखते हुए विकास के लिए लघु एवं कुटीर उद्योग से जोड़ते हुए ग्रामीणों को प्रशिक्षण दिया जायेगा. उसके बाद  गांव के ग्रामीण तथा महिला समूहों को स्वरोजगार से जोड़ा जायेगा. सरकार ने ठाना है हर एक गरीब परिवार को बीपीएल श्रेणी से उपर उठाना है.  

प्रशिक्षण शिविर में विभिन्न गांवों से आये ग्रामीण उद्यमी समन्वयकों से उनके गांव की रूप रेखा के बारे में जानकारी ली. प्रशिक्षण में गांव के विकास पर विस्तार से चर्चा की गयी. इसके पूर्व प्रशिक्षण शिविर कार्यक्रम में मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम विकास बोर्ड के उप निदेशक जोन ब्रिटो ने लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में ग्रामीण उद्यमी समन्वयकों को जानकारी दी.  प्रशिक्षण शिविर में जिला समन्वय श्रीकांत के अलावे सभी ग्रामीण उद्यमी समन्वयक उपस्थित थे. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: