न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राम भक्तों की इच्छा ‘टाट नहीं ठाठ’ में रहें राम लला: मौर्य

19

News Wing
Lucknow, 28 November: अयोध्या में राम लला के लिए भव्य मंदिर के निर्माण पर विश्वास जताते हुए उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज कहा कि हर राम भक्त की इच्छा है कि ‘राम टाट में नहीं ठाठ में रहें. उन्होंने कहा कि भगवान राम आज भी उसी हालत में हैं जैसे वह विवादित ढांचा ढहने से पहले थे. परंपरा और रीतियों के अनुसार उनकी हर रोज पूजा होती है लेकिन वह (राम) टाट के नीचे हैं. हर राम भक्त चाहता है कि भगवान राम टाट में ना रहें बल्कि ठाठ में रहें. मौर्य ने कहा कि वहां भव्य राम मंदिर बनना चाहिए.

पांच दिसंबर को बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई

उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद के मामले में अदालत की दैनिक सुनवाई पांच दिसंबर से शुरू होगी. मुझे विश्वास है कि सुनवाई के बाद जल्द फैसला आएगा. मौर्य ने कहा कि एक बार राम ​मंदिर का निर्माण हो जाए तो यह विहिप नेता अशोक सिंघल, महंत रामचंद्र दास परमहंस और कुर्बानी देने वाले कारसेवकों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

पहल करने वालों के पास हो रोडमैप

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रवि शंकर की पहल के बारे में मौर्य ने कहा कि अगर कोई पहल करता है तो सरकार की ओर से उसका विरोध नहीं है चाहे वह इस मामले में पक्ष हो या ना हो. जिन्होंने पहल की है, उनके पास रोडमैप होना चाहिए. लेकिन सरकार की ओर से हम या तो संबद्ध पक्षों के बीच समझौते या उच्चतम न्यायालय के फैसले का इंतजार कर रहे हैं. मौर्य ने सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि वह जानबूझकर राम भक्तों के घाव हरे कर रहे हैं. कोई भी राम भक्त मुलायम के शासन में कारसेवकों पर गोलीबारी को भूल नहीं सकता. उन्होंने कहा कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है और करोड़ों हिन्दुओं की आस्था का प्रतीक है.

मुलायम और अखिलेश समाज को बांट सकते लेकिन भगवान को नहींः मौर्य

भगवान राम की तुलना कृष्ण से करने को लेकर मुलायम और उनके बेटे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की टिप्पणियों पर मौर्य ने कहा कि उन्होंने निश्चित तौर पर समाज को बांटकर कुछ तात्कालिक फायदे लिये है. ‘‘अब वह भगवान को भी बांटकर कुछ तात्कालिक फायदा चाहते हैं. हालांकि समाज को तो वह बांट सकते हैं लेकिन भगवान को नहीं बांट सकते. अब उन्होंने साबित कर दिया है कि वह समाज को बांटने में भी विफल रहे क्योंकि अब जनता उनके असल रंग को पहचान चुकी है. उन्होंने कहा कि हमारे लिये अयोध्या कभी राजनीतिक मुद्दा नहीं रहा और भविष्य में भी नहीं होगा. यह आस्था का मामला है. सपा, बसपा और कांग्रेस आस्था को राजनीति से जोड़ देते हैं.

बता दें कि कुछ दिन पहले ही मुलायम ने कारसेवकों पर गोलीबारी को सही ठहराते हुए कहा था कि देश की एकता अखंडता के लिए अगर और लोगों को मारने की आवश्यकता होती तो सुरक्षाबल उन्हें भी मार देते।

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: