न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रामगढ़ : गौ रक्षा व बीफ के नाम पर अलीमुद्दीन हत्याकांड के आरोपियों में 11 को आजीवन कारावास

30

Ramgarh :  गोरक्षा और बीफ ले जाने के नाम पर रामगढ़ में हुए अलीमुद्दीन हत्याकांड में बुधवार को कोर्ट ने फैसला सुनाया. फास्ट ट्रैक कोर्ट एडीजे-दो ओमप्रकाश की अदालत ने 11 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनायी. 16 मार्च को अदालत ने कुल 11 आरोपियों को दोषी करार दिया था. जिन आरोपियों को सजा सुनायी गयी है, उनमें दीपक मिश्रा, छोटू वर्मा और संतोष सिंह समेत 11 लोग शामिल हैं. सुनवाई के दौरान रामगढ़ जिला कोर्ट परिसर में भारी भीड़ थी. कोर्ट परिसर में भाजपा, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल समेत शहर के लोग फैसले का इंतजार कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें –गोरक्षा के नाम पर रामगढ़ में हुई अलीमुद्दीन हत्याकांड में आठ आरोपी दोषी करार

पत्नी ने 12 लोगों के खिलाफ दर्ज करायी थी प्राथमिकी

पिछले साल यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद गोरक्षा और बीफ के नाम पर देश में कई जगहों पर हिंसा हुई थी. कई जगहों पर भीड़ ने कथित रुप से बीफ ले जाने वालों की हत्या पीट-पीटकर कर दी. 29 जून 2017 को रामगढ़ में भी एसी ही घटना हुई थी, जब गोरक्षा समिति के लोगों ने एक मारुति वैन को शहर के बाजारटांड़ में पकड़ा. वैन में कथित रुप से बीफ लदे होने की बात कही गयी. जिसके बाद भीड़ ने वैन को ले जा रहे मो अलीमुद्दीन को पकड़ लिया और पीट-पीटकर  उसे अधमरा कर दिया.

इसे भी पढ़ें –अलीमुद्दीन अंसारी मामले की सुनवाई को मोबाइल में रिकॉर्डिंग करते तीन धराये,  लिये गये हिरासत में

 नपसवरपस

भीड़ ने वैन को भी फूंक दिया. पुलिस ने अलीमुद्दीन को इलाज के लिए रांची लाया. लेकिन रास्ते में ही उसके मौत हो गयी. इस मामले में पुलिस अलीमुद्दीन की पत्नी के बयान पर 12 लोगों के खिलाफ भादवि की धारा 147, 148, 427, 149, 435, 149, 302 व 149 के तहत मामला दर्ज किया था और अदालत में चार्जशीट दाखिल किया था. जिसमें एक आरोपी नाबालिग छोटे राणा भी है. सुनवाई के दौरान अदालत ने आरोपियों को भादवि की धारा 302 और 120बी के तहत दोषी पाया है. जिसके बाद अदालत ने जिन आरोपियों को दोषी पाया, उन्हें रामगढ़ जेल भेज दिया, जबकि नाबालिग छोटे राणा को हजारीबाग स्थित बाल सुधार गृह भेजने का निर्देश दिया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: