Uncategorized

राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था पर कांग्रेस का वार, कहाः चार महीने में हुई 164 बच्चों की मौत

News Wing

Ranchi, 27 August: मुख्यमंत्री रघुवर दास के गृह क्षेत्र की लचर स्वास्थ्य व्यवस्था के खिलाफ कांग्रेस ने मोर्चा खोल दिया है. जमशेदपुर के सबसे बड़े अस्पताल एमजीएम की चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था पर कांग्रेस ने सरकार को घेरा है.

पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. अजय कुमार का खुलासा 

– जमशेदपुर में एमजीएम मेडिकल कॉलेज में पिछले चार महीने में 164 बच्चों की मौत हुई है.
– 60 कुपोषित बच्चों की मौत पिछले 30 दिनों में हुई है. 
– सभी बच्चों की मौत का जिम्मेवार झारखंड सरकार है.
– अस्पताल में मई से अगस्त के बीच एनआइसीयू, पीआइसीयू और वार्डो में विभिन्न रोगों से ग्रस्त 1867 बच्चों को भर्ती किया गया था.
– बदइंतजामी की वजह से 164 बच्चों की मौत हो गयी.
– बच्चों की मौत के जिम्मेदार अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाए.
– अस्पताल में मशीनों को जंग खा रहे हैं.
– बेकार पड़े-पड़े आधे से अधिक मशीन खराब हो चुके हैं.
– इमरजेंसी में करीब 1.5 करोड़ की लागत से तैयार मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर काम नहीं कर रहा है.
– 36 लाख की डिजास्टर ट्रॉली बेकार पड़ी हुई है.

यह भी पढ़ेंः जमशेदपुरः एमजीएम में जुलाई में 64 नवजात की मौत, स्वास्थ्य विभाग ने कहाः 16-17 बच्चे थे अंडरवेट

रिम्स में मिल रही है लोगों को मौत

डॉ. अजय ने राज्य के सबसे बडे अस्पताल रिम्स की लचर व्यवस्था पर भी सवाल उठाए.

कहा- रिम्स में मानवता को शर्मसार करने वाली घटना घट रही है. 50 रूपये की कमी की वजह से मासूम श्याम और संतोष लोहरा की जान चली गयी.

यह भी पढ़ेंः रिम्स में ब्लड नहीं मिला, गर्भवती महिला की जान गई, दोषी कौन…?

दूसरे अस्पताल का भी मुद्दा उठाया

पूर्व सांसद डॉ. अजय ने गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 67 की मौत का मामला भी उठाया. साथ ही प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीएचयू के मामले का जिक्र करते हुए कहा कि ऑक्सीजन की जगह मरीज से दूसरी गैस दे दी गयी जिससे उनकी मौत हो गयी. साथ ही यह भी कहा कि रायपुर के बीआर अंबेदकर अस्पताल में भी आॅक्सीजन की कमी से तीन बच्चों की मौत हो गयी.

यह भी पढ़ेंः सावधान! साहेबगंज में डेंगू हुआ तो जाना पड़ेगा बिहार

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button