न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

राज्यसभा चुनाव को बनाया सीएम के पीए ने मजाक, काउंटिंग के दौरान प्रतिबंधित एरिया में घूमते दिखे, निर्वाचन आयोग क्या लेगा संज्ञान!

19

Ranchi:  कहने वाले इसे तानाशाही कह रहे हैं. कोई कह रहा है कि झारखंड की पूर्ण बहुमत वाली सरकार में सब कुछ संभव है. शुक्रवार के दिन में झारखंड राज्यसभा की रिपोर्टिंग के दौरान खास कर मीडिया के लोगों के साथ ऐसा बर्ताव किया जा रहा था, जिसे देखकर दूसरों के मन में खौफ पैदा हो रहा था. सुरक्षा कर्मी वोटिंग रुम से करीब 50 फीट का दायरा बना कर अपनी सुरक्षा में मुस्तैद थे. किसी के भी आने-जाने पर मनाही थी. लेकिन कानून क्या वहां सब के लिए एक था. यह सवाल नीचे लगे वीडियो को देख कर जरूर उठता है. बहरहाल झामुमो के लोगों ने देर रात तक इस बात को लेकर विधानसभा परिसर में जबरदस्त हंगामा किया और नारेबाजी की. 

eidbanner

 

सीएम के पीए अंजन सरकार क्या कर रहे थे वोटिंग एरिया में

सईया भये कोतवाल………. वाली कहावत शायद यहां लाजमी हो जाती है. सीएम रघुवर दास के पीए अंजन सरकार ना तो चुनाव आयोग के अधिकारी हैं, और ना ही कोई विधायक जिन्हें पोलिंग एजेंट बनाया गया हो. सनद रहे कि बात हो रही है एक संवैधानिक निर्वाचन प्रक्रिया की. कैसे कोई भी शख्स चुनाव और गिनती के दौरान वोटिंग परिसर में घुस सकता है. जबकि बाहर खड़ी फोर्स ऐसे किसी भी शख्स को रोक रही है जो चुनाव से जुड़ा अधिकारी या पदाधिकारी ना हो. सीएम रघुवर दास के पीए अंजन सरकार को किसने और किस प्रक्रिया के तहत ये पावर दे दिया कि वो काउंटिंग के दौरान प्रतिबंधित एरिया में घुस जाएं. वहां से फोन पर किसी से बात करें. ऐस सब कुछ हुआ है. वीडियो को देख कर इस तानाशाही का पर्दाफाश होता है. 

इसे भी पढ़ें : स्टेट गेस्ट हाउस के कमरा नंबर 302 पर सीएम के पीए अंजन के भाई का कब्जा

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

क्या निर्वाचन आयोग लेगा संज्ञान ?
सीएम रघुवर दास के पीए अंजन सरकार का यह वीडियो और किसी ने नहीं बल्कि झामुमो ने जारी किया है. वीडियो को देखने के बाद यह साफ है कि अंजन सरकार प्रतिबंधित एरिया में दाखिल हुए. ऐसे में सवाल यह है कि क्या चुनाव आयोग इस पूरे मामले पर संज्ञान लेगा. सूत्रों की मानें तो इस मामले की जानकारी राज्य की प्रमुख विपक्ष पार्टी चुनाव आयोग को देने जा रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: