न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राकेश अस्थाना नियुक्ति विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में पूरी, 28 नवंबर को आयेगा फैसला

18

News Wing

New Delhi, 25 November : उच्चतम न्यायालय ने कहा कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी राकेश अस्थाना की केन्द्रीय जांच ब्यूरो में विशेष निदेशक पद पर नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर 28 नवंबर को फैसला सुनाया जायेगा. न्यायमूर्ति आर के अग्रवाल और न्यायमूर्ति ए एम सप्रे की पीठ के समक्ष केन्द्र ने इस नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका का विरोध करते हुए कहा कि अस्थाना का शानदार करियर रहा है और उन्होंने कोयला घोटाला, किंगफिशर एयरलाइन, आगस्तावेस्टलैंड घोटाला, काला धन और धन शोधन जैसे सनसनीखेज मामलों की जांच की निगरानी की है.

गैर सरकारी संगठन ‘कॉमन कॉज’ के वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि अस्थाना की नियुक्ति गैरकानूनी है क्योंकि स्टर्लिग बायोटेक लिमिटेड के कार्यालयों और दूसरे परिसरों पर मारे गये आयकर विभाग के छापों में मिली डायरी में उनका नाम सामने आया है. केन्द्र की ओर से अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल और गैर सरकारी संगठन की ओर से प्रशांत भूषण की दलीलें सुनने के बाद पीठ ने कहा कि इस पर 28 नवंबर को फैसला सुनाया जायेगा.

यह भी पढ़ें : राहुल ने राफेल सौदे, जय शाह मुद्दे को लेकर मोदी पर निशाना साधा

योग्यता के आधार पर हुई नियुक्ति : चयन समिति

भूषण के अनुसार कंपनी के यहां से मिली डायरी में अस्थाना का गैरकानूनी तरीके से धन लेना दर्शाया गया है. जांच ब्यूरो ने हाल ही में धन शोधन मामले में आरोपी कंपनी और कुछ लोक सेवकों के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की थी. वेणुगोपाल ने इसका विरोध करते हुए कहा कि जांच ब्यूरो ने प्राथमिकी में उनके नाम का जिक्र नहीं किया है और अस्थाना का शानदार करियर रहा है. अस्थाना, जो पहले जांच ब्यूरो में अतिरिक्त निदेशक के पद पर कार्यरत थे, 11 मण्डलों का कामकाज देख रहे थे.

silk_park

यह भी पढ़ें : IAS राजीव रंजन किसी काम के नहीं, रिश्वत के लिए रखते हैं बिचौलिए, महिलाओं के साथ भी आचरण ठीक नहीः रिपोर्ट

उन्होंने चयन समिति की बैठक की कार्यवाही का विवरण पढते हुए कहा कि चयन समिति ने नोट पर विचार किया और जांच ब्यूरो के निदेशक के साथ भी इस पर चर्चा की थी. इस तथ्य के मद्देनजर कि ऐसा कोई उल्लेख नहीं है कि उसमें जिस व्यक्ति के नाम का जिक्र है उसी के नाम पर नियुक्ति के लिए विचार हो रहा है. इस दस्तावेज के विवरण की सत्यता के बारे में भी कुछ नहीं है.’’ वेणुगोपाल ने कहा कि समिति ने इस तथ्य पर भी विचार किया कि जांच एजेन्सी ने ही पहले विशेष निदेशक के पद के लिए अस्थाना के नाम का प्रस्ताव किया था. इसीलिए इस अधिकारी के नाम की पद के लिए सिफारिश करने का फैसला किया गया.

अस्थाना के अधीन केन्द्रीय जांच ब्यूरो स्वतंत्र और निर्भय होकर काम नहीं कर सकेगा : प्रशांत भूषण

दूसरी ओर, भूषण का कहना था कि सूचना के अधिकार के तहत इस बैठक का विवरण उन्हें उपलब्ध नहीं कराया गया. उन्होंने आरोप लगाया कि अस्थाना के अधीन केन्द्रीय जांच ब्यूरो स्वतंत्र और निर्भय होकर काम नहीं कर सकेगा क्यों कि इस अधिकारी की पुत्री का विवाह आरोपी कंपनी के मालिक के विशाल फार्महाउस में हुआ था. वेणुगोपाल ने कहा कि आयकर छापे में बरामद डायरी सहित अनेक गोपनीय दस्तावेज पहले ही जनहित याचिका के साथ दायर किये जा चुके हैं और ‘‘मै उम्मीद करता हूं कि यह डायरी सूचना के अधिकार के तहत नहीं मिली होगी.’’ भूषण ने कहा कि हाल ही में उन्हें पता चला है कि अस्थाना का बेटा भी आरोपी फर्म में काम करता है और इसलिए उनके अधीन जांच ब्यूरो इस आरोपी कंपनी के खिलाफ जांच नहीं कर पायेगी जिस पर 5000 करोड रूपये की अनियमिततायें करने का आरोप है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: