Uncategorized

रांची विश्वविद्यालय ने प्रकाशित नहीं किया रिजल्ट, कई छात्र नहीं भर पायेंगे प्लस टू टीचर नियुक्ति फॉर्म

Ranchi : पीजी छात्र संघ अध्यक्ष तनुज खत्री ने मंगलवार को  रांची विश्वविद्यालय के कुलपति रमेश कुमार पांडे को एक आवेदन सौंपा. आवेदन में संघ की ओर से पीजी विभाग के द्वारा की जा रही लापरवाहियों का जिक्र किया गया है. तनुज ने साफतौर पर आवेदन में लिखा है कि विवि के 2015-2017 सेशन के 55 पीजी विभागों का रिजल्ट अब तक प्रकाशित नहीं किया गया है. हालांकि साल 2017 के सितंबर महीने में पीजी के सेमेस्टर 2 और 4 की परीक्षा ली गयी थी. अब रिजल्ट की वजह से छात्र विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल नहीं हो पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – रांची के डेढ़ लाख भवनों में केवल 10 हजार में लगा रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम

आवेदन में जेएसएससी के द्वारा निकाली गयी प्लस टू शिक्षक परीक्षा का भी जिक्र किया गया है और लिखा गया है कि 10 जनवरी को ही इसकी अंतिम तारीख है और ऐसे में एक – दो दिन में रिजल्ट नहीं प्रकाशित किया गया तो परेशानी बढ़ जायेगी. कई छात्र अपने ही राज्य में निकले इस शिक्षक भर्ती का हिस्सा नहीं बन पायेंगे क्योंकि जेएसएससी  की ओर से निकाले गये इस  शिक्षक भर्ती में मार्कशीट की मांग की गयी है. 

रिजल्ट नहीं आने से की छात्र नहीं भर पायेंगे फॉर्म 

उल्लेखनीय है कि झारखंड स्‍टाफ सलेक्‍शन कमीशन (जेएसएससी) ने विभिन्न विषयों में पीजी ट्रेंड टीचर की भर्ती के लिए अपनी अधिसूचना जारी की है. जिसमें 3010 पद के लिए आवेदन लिया जा रहा है. झारखंड के छात्रों के लिए यह सुनहरा अवसर है. लेकिन पीजी विभाग के द्वारा रिजल्ट प्रकाशित नहीं होने की वजह से कई छात्र अब इस फॉर्म को भरने से वंचित रह जायेंगे. हालांकि विश्वविद्यालय की ओर से दो दिनों के अंदर रिजल्ट प्रकाशित कर दिया जाता है तो छात्रों के लिए बड़ी राहत होगी.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांड का सच-08: जेजेएमपी ने मारा था नक्सली अनुराग व 11 निर्दोष लोगों को, पुलिस का एक आदमी भी था साथ ! (देखें वीडियो)

वर्तमान में झारखंड के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भारी कमी है. कई जिलों में तो एक ही शिक्षक के भरोसे विद्यालय चलाया जाता है और एक ही शिक्षक कई क्लास को छात्रों को पढ़ाता है. ऐसे में यदि बड़ी संख्या में छात्र शिक्षक बहाली में सिर्फ रिजल्ट की वजह से शामिल नहीं हो पाते हैं तो यह शिक्षा विभाग के साथ ही विश्वविद्यालय के लिए भी बड़ी नाकामी होगी.     

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button