न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची विवि का कैंपस रेडियो जल्द होगा शुरू, 90.4 एफएम फ्रीक्वेंसी पर गूंजेगी मखमली आवाज

9

Kumar gaurav

News Wing Ranchi, 27 November: जल्द ही रांची यूनिवर्सिटी का एक सपना पूरा होने को है. एक ऐसा सपना जो इस यूनिवर्सिटी को एक अलग ही पहचान देगाण. रांची विवि का अब अपना कैंपस रेडियो होगा, जिसमें आप जल्द ही किसी की मखमली आवाज में ये सून पाएंगे रेडियो खांची 90.4 एफएम. केंद्र सरकार ने रेडियो खांची के संचालन के लिए फ्रीक्वेंसी आवंटित कर दी है. इससे पहले राज्य सरकार ने स्थापना के लिए 76 लाख रुपये आवंटित की थी. कम्यूनिटी रेडियो के निदेशक डॉ आनंद ठाकुर ने बताया कि भारत सरकार के कम्युनिकेशन एवं इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय के टेलीकम्युनिकेशन विभाग से 90.4 एफएम फ्रीक्वेंसी आवंटित करने संबंधी पत्र प्राप्त हो गया है.

24 घंटे होगा प्रसारण

रेडियो खांची पर कार्यक्रमों का प्रसारण 24 घंटे होगा. इसके लिए इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय की ओर से दो स्टेशन स्थापित करने की स्वीकृति मिली है. पहले स्टेशन में फिक्स्ड आपरेटर और दूसरे में स्टैंड बाई आपरेटर की अनुमति मिली है. रेडियो के एंटिना की उंचाई 30 मीटर निर्धारित की गई है. इसकी स्थापना मोरहाबादी स्थित बेसिक साइंस भवन में की जाएगी.

2011 में देखा गया था सपना, 2018 में होगा पूरा

रेडियो की स्थापना के लिए बीते सात साल से प्रयास चल रहा था, लेकिन तत्कालीन विवि प्रशासन इसके प्रति लापरवाह रहा. अब जाकर सपना सच होने वाला है. अब केवल तीन कार्य बाकी हैं. इसमें केंद्र सरकार से पहला स्टैंडिंग एडवाइजरी कमेटी फॉर फ्रीक्वेंसी एलोकेशन से एसएसीएफए क्लियरेंस लिया जाएगा. इसमें कम्युनिकेशन आईटी मंत्रालय की अनुमति जरूरी है. दूसरा कार्य रांची विवि व सूचना मंत्रालय के बीच एक एग्रीमेंट होगा. तीसरे व अंतिम चरण में ऑपरेटिंग लाइसेंस प्राप्त करने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी.

विभिन्न कार्यक्रमों की भी दी जायेगी जानकारी, छात्रों को नहीं आना पड़ेगा मुख्यालय

silk_park

रेडियो खांची की शुरुआत होने के साथ ही सभी कॉलेज में एक-एक रेडियो रिपोर्टर अप्वाइंट किए जाएंगे. इनका काम होगा कॉलेज की सभी एक्टिविटी को रेडियो के माध्यम से बताना. रेडियो खांची के प्रोजेक्ट हेड आनंद ठाकुर ने बताया कि हम कॉलेज के स्टूडेंट्स को इसके लिए ट्रेनिंग देंगे कि कॉलेज की एक्टिविटी की रिपोर्टिंग कैसे करनी है. इसके माध्यम से स्टूडेंट्स में बेबाक बोलने का तरीका भी डेवलप किया जाएगा.

रेडियो जॉकी कोर्स होगा शुरू

आरयू के रेडियो शुरू होने के बाद स्टूडेंट्स का आरजे के लिए पहले ऑडिशन लिया जाएगा. इसके बाद स्टूडेंट्स की काउंसिलिंग होगीय इसके बाद सेलेक्ट हुए स्टूडेंट्स को आरजे की ट्रेनिंग दी जाएगी. इसमें उन्हें बताया जाएगा कि आरयू के एजुकेशनल प्रोग्राम की एंकरिंग कैसे करनी है. इसके अलावा ऐसे प्रोग्राम में आरयू के टीचर और बाहर से बुलाये गये गेस्ट के साथ डिस्कशन भी होगा, वहीं ऑडिशन और ट्रेनिंग के लिए ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन के लोगों की मदद भी ली जाएगी.

मिलेगी एंकरिंग और वॉयस ओवर की ट्रेनिंग

आरजे की ट्रेनिंग स्टूडेंट्स को दी जाएगी जो कि शार्ट टर्म होगी. इसमें स्टूडेंट्स को एंकरिंग की बारीकियां सिखाई जाएगी. इसके अलावा यह बताया जाएगा कि एंकरिंग करते समय अपने वॉयस को कैसे प्रेजेंट करें. इसके लिए स्टूडेंट्स को लैंग्वेज और करेंट अफेयर की पूरी जानकारी जरूरी होगी.  रेडियो खांची के प्रोजेक्ट हेड आनंद ठाकुर ने बताया कि आरजे कोर्स को पहले एकेडमिक काउंसिल में रखा जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: