न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची नगर निगम चुनाव 2018 : डिप्‍टी मेयर उम्‍मीदवार संजीव विजयवर्गीय ने बताया 5 सालों में क्‍यों नहीं सुधरी सड़क, नाली और पानी की समस्‍या

236

Ranchi : रांची नगर निगम के डिप्‍टी मेयर संजीव विजयवर्गीय एक बार फिर डिप्‍टी मेयर के प्रत्‍याशी के रूप भारतीय जनता पार्टी की ओर से चुनाव मैदान में हैं. पिछली बार उन्‍होंने एक वार्ड पार्षद के प्रत्‍याशी के तौर पर चुनाव लड़ा थाउसके बाद वह नगर निगम जीते हुए वार्ड सदस्‍यों के चुनाव के बाद ही डिप्‍टी मेयर बने थे. इस बार पहली बार प्रत्‍यक्ष तौर पर उप महापौर के पद के लिए मैदान में उतरे हैं. इस बार पूरे नगर निगम क्षेत्र के मतदाताओं को अपने काम-काज के प्रोग्रेस रिपोर्ट को सामने रख कर रिझाने की बड़ी चुनौती होगीक्‍योंकि पांच साल के कार्यकाल के दौरान मेयर आशा लकड़ा के साथ टकराव की बातें सुर्खियों में रही है. डिस्‍टलरी पुल में तालाब सौंदर्यीकरण का मामला होया नगर निगम में अनियमिता और भ्रष्‍टाचार का मामला होसार्वजनिक क्षेत्रों में मतभेद जगजाहिर हैन्‍यूजविंग ने ऐसे ही कई मुद्दों पर संजीव विजयवर्गीय से बातचीत की और रांची नगर निगम से जुड़े पार्कसड़कनालीअतिक्रमणबाजार व्‍यवस्‍था से जुड़ी तीखे सवालों के जवाब पूछे.

इसे भी पढ़ें : चोर मचाये शोर, राज्यसभा चुनाव पर बोले जेवीएम महासचिव बंधु तिर्की

सवाल : पांच साल आप डिप्‍टी मेयर रहे. अपनी कौन सी उपलब्धियों को लेकर आप मतदाताओं से वोट मांगेंगे.

जवाब : रांची नगर निगम में जिस तरह से पहले काम चलता थाउसमें बहुत सारे सुधार आये हैं. पहले पानी का कनेक्‍शन लेने के लिए लोगों को होल्डिंग नंबर की जरूरत होती थी. बोर्ड की बैठक में इसे फ्री किया गया. अब लोगों को आईडी प्रुफ से ही कनेक्‍शन मिलता है. रांची में पांच सालों में तालाबों का सौंदर्यीकरण ऐतिहासिक रहा है. जो सड़क 40 सालों में नहीं बनीउन्‍हें अच्‍छे ढंग से बनाया गया. ग्रामीण क्षेत्रों में कालीकरण रोड बनाया गया.

सवाल : सीवरेज ड्रेनेज के नाम पर बने हुए सड़कों को खोद दिया गया. लोगों की परेशानी ज्‍यादा बढ़ी है.

जवाब : सीवरेज और ड्रेनेज का काम कोई छोटा काम नहीं हैबहुत बड़ा काम है. पहले जोन में यह काम 9 वार्ड में चल रहा है. इसमें समय देना पड़ेगा. जब इस तरह का काम होता हैपूरा शहर दो-तीन साल तक अव्‍यवस्थित रहता है. यह काम 2016 से चल रहा है. अभी और समय लगेगा.

सवाल : अब तक इसमें कितना खर्च हुआ और काम में देरी से कितना ओवर बजट हुआ.

जवाब : टेक्‍नीकल बातें आपको अधिकारी बतायेंगे कि इसमें कितना काम हुआकितना ओवर बजट हुआयह सब मैं नहीं जानता हूं. लेकिन तत्‍काल में जहां काम हो जा रहे हैं. वहां पब्लिक बहुत खुश है.

सवाल : कई जगहों में गड्ढे खोदकर छोड़ दिये गये हैं. सड़क समतीलकरण नहीं किया हैउदाहरण के तौर पर वार्ड पांच है.

जवाब : वार्ड नंबर में 5 में जहां पिछले साल गड्ढे खुदे हुए थेसमतल कर दिये गये हैं. मैं नहीं समझता हूं कि लोगों को वहां परेशानी है. आप मेरे साथ चलिये वहां सब ठीक है.

सवाल : आरटीसी स्‍कूल के आस-पास के इलाकों की हालत सुधरी नहीं है. अभी भी गड्ढे हैंताजा जीवंत तस्‍वीरें यह साफ बयां कर रही है.

जवाब : इस तरह की गलती अगर ठेकेदार ने की है. तो उसकी सजा उसे मिलेगी. यह सब प्रक्रिया के तहत होती है. हम इसमें एक नेतृत्‍व को तुरंत सवाल नहीं कर सकते हैं.

सवाल : तालाब सौंदर्यीकरण के नाम पर आपने तालाबों को मिट्टी भर कर छोटा कर दिया है. रिम्‍स से कोकर जाने वाली सड़क के किनारे का तालाब इसका उदाहरण है.

जवाब : वह जगह मैं भी देख रहा हूं. अगर वहां चार-पांच फीट मिट्टी नहीं भरी जाती तोक्‍या यह संभव था कि सड़क को बंद कर दिया जाता. यह लाखों लोगों के आने-जाने के लिए बना हुआ है. हम अच्‍छा करना चाह रहे हैं. हमारे इस काम से प्रकृति को कोई नुकसान नहीं है.

सवाल : कोकर में डिस्‍टलरी तालाब में पार्क निर्माण को लेकर आपके और मेयर के बीच विवाद और नोंझ रहा है. इस चुनाव में ये विवाद से कितना नुकसान होगा.

जवाब : जी नहींमेयर और मेरे बीच कोई विवाद नहीं है. डिस्‍टलरी पुल पहले नाले के स्‍वरूप में था, उसे हमने व्‍यस्थित करने का काम किया. हम यह चाहते थेकि वहां पानी ज्‍यादा से ज्‍यादा रहेलेकिन वहां पानी का स्रोत नहीं होने के कारण हमें उसे पार्क के रूप में विकसित करना पड़ा. यह ऐतिहासिक कदम है. यह रांची के लिए उदाहरण है.

सवाल : आपने शहर में नालियों का जाल बिछा दियापानी निकासी के लिए जगह नहीं बनायीबारिश के दिनों में सड़क पर पानी जम जाता है. क्‍या यह जनता के पैसे की बर्बादी नहीं है.

जवाब : पीडब्‍लूडी की यह योजना 2012-13 में यूपीए के सरकार की योजना थी. बाद में भी यह योजना चली. उसके बाद उस योजना का हमने वृहद स्‍वरूप में खाका तैयार किया है. अभी फिर से इस पर डीपीआर बना है और पानी की निकासी के लिए भी डीपीआर बनी है. इससे निकासी की समस्‍या खत्‍म हो जायेगी.

सवाल : आपलोगों ने फुटपाथ दुकानदारों और बाजार को अतिक्रमण के नाम पर बहुत परेशान किया. आपको लोग क्‍यों वोट करेंगे.

जवाब : इस मसले को हमलोगों ने उसी समय समाधान कर दिया था. वहां जब सब्‍जी बाजार वालों को हटाया गया थातो वहां मैं खुद गया थामेयर भी गई थींमंत्रीजी भी गये थे और बाजार स्‍थापित कराया गया था. हमलोग तात्‍कालिक फायदा लेने के दृष्टिकोण से काम कर रहे हैं. आने वाले समय में और 2-4 साल और समय मिलेगा तो सभी फुटपाथ दुकानदारों को व्‍यवस्थित किया जा सकेगा.

सवाल : स्‍मार्ट सड़क के नाम पर रांची में रैयतों की जमीन मापी की जा रही हैलोगों को यह नहीं बताया जा रहा है कि किसकी कितनी जमीन जा रही है.

जवाब : स्‍मार्ट सड़क का काम जुडको के द्वारा किया जा रहा हैयह नगर निगम का नहींनगर विकास विभाग की योजना है.

इसे भी पढ़ें : जेवीएम के चोर मचाये शोर वाले बयान पर भाजपा का पलटवार, प्रतुल शाहदेव ने कहा – उल्टा चोर कोतवाल को डांटे

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: