न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

रांची के मैरिज-बैंक्वेट हॉल में पर्याप्त पार्किंग व्यवस्था नहीं, सड़क पर लगती हैं गाड़ियां, होते हैं लोग परेशान (देखें वीडियो)

38

NEWSWING

eidbanner

Ranchi, 05 December : शहर के मैरिज और बैंक्वेट हॉल का संचालन नियम के विरुद्ध धड़ल्ले से हो रहा है. निबंधित मैरिज हॉल या बैंक्वेट में निगम की नियमावली का ढंग से पालन नहीं किया जा रहा है. इन जगहों पर खासकर पार्किंग के लिए पर्याप्त जगह नहीं है. वहीं कचरा इकट्ठा करने के लिए डी-सेंट्रलाइज्ड कंपोस्टिंग मशीन किसी भी जगह नहीं है. नगर निगम ने ऐसे भवन के संचालकों को इसे एक माह के अंदर लगाने का निर्देश दिया है. इसके बाद जांच प्रक्रिया चलेगी. जबकि सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल-2016 के अनुसार ऐसी जगहों पर यह मशीन लगाना अनिवार्य है. उधर रांची शहर में वैसे मैरिज हॉल की संख्या अधिक है, जो अनुमति से संचालित हो रहा है. इनपर नगर निगम की ओर से कार्रवाई कर जुर्माना लगाया जा रहा है.

मैरिज हॉल में क्षमता से अधिक पहुंचती हैं गाड़ियां

शादियों के मौके पर शहर के मैरिज हॉल में पार्किंग क्षमता से कहीं ज्यादा गाड़ियां पहुंच रही है. इसके कारण ही सड़क पर लोग अपनी गाड़ियों को पार्क कर देते हैं. करमटोली चौक स्थित सेलिब्रेशन मैरेज हॉल में लगभग 150 कार पार्किंग की व्यवस्था है. लेकिन शादियों पर पहुंचने वाली वाहनों की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा होती है. सेलिब्रेशन के मैनेजर की माने तो शादी या इवेंट्स में लगभग चार सौ से अधिक गाड़ियां पहुंच जाती हैं. इस वजह से मजबूरन लोगों को सड़क पर अपनी गाड़ियां पार्क करनी पड़ती है. इसके अलावा बरियातू का मंथन मैरेज हॉल, हरमू अज्ञा पैलेस, आईएमए, होटल माही, कडरू जामिया बैंक्वेट हॉल आदि में भी पार्किंग का यही हाल है.

शहर में 69 निबंधित मैरिज हॉल

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

इस तरह के मैरेज भवनों का निबंधन एक वर्ष का होता है. रांची में ऐसे भवनों की संख्या वर्तमान में 69 है जो नगर निगम से राजिस्टर्ड हैं. 2017-18 में अबतक 41 भवनों का राजिस्ट्रेशन हुआ है. शेष प्रक्रिया में हैं, जिन्हें जांच कर निबंधित किया जायेगा. निबंधन की प्रक्रिया में स्वीकृत नक्शा, पार्किंग स्पेस और डी-कंपोस्टिंग मशीन आदि अनिवार्य है.

तत्कालीन एसडीओ भोर सिंह यादव नें लाइसेंस रद्द करने का दिया था निर्देश

बता दें कि इसी वर्ष गर्मी के समय तत्कालीन एसडीओ भोर सिंह यादव ने जाम पार्किंग की वजह से लग रहे जाम के विषय में ठोस कदम उठाया था. उन्होंने कहा था कि जिस बैंक्वेट हॉल के पास पर्याप्त पार्किग की व्यवस्था नहीं है, उसका लाइसेंस रद्द कर दिया जायेगा. पर भोर सिंह यादव के रांची से जाते ही सारे निर्देश हवा-हवाई हो गये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: