Uncategorized

रांचीः रिम्स के अस्थि विभाग के सह-प्रध्यापक को मिली जान से मारने की धमकी

Ranchi: राजधानी रांची का रिम्स अस्पताल इन दिनों सुर्खियों में है. कभी डॉक्टरों के बीच मारपीट तो कभी एंबुलेंस चालकों के बीच में झगड़ा से यह अस्पताल अभी खबरों में है. अब एक और मामला सामने आया है. रिम्स के ऑर्थोपेडिक विभाग के सह- प्राध्यापक डॉ गोविंद गुप्ता को जान से मारने की धमकी मिली है. गौरतलब है कि झारखंड उच्च न्यायालय के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग झारखंड सरकार द्वारा गठित अपेक्स मेडिकल बोर्ड में डॉ गोविंद गुप्ता को सदस्य बनाया गया था. इस बोर्ड के द्वारा पुलिस भर्ती से संबंधित आवेदकों का मेडिकल जांच किया गया. मेडिकल बोर्ड में अनफिट हुए आवेदकों को छांट दिया गया था. इसी संदर्भ में एक धमकी पत्र स्पीड पोस्ट के माध्यम से किसी आवेदक ने भेजा है. इस पत्र में लिखा हुआ है कि यदि कोई आवेदक मेडिकल फिट नहीं होता है तो उनका पहला निशाना आप होंगे.   

इसे भी पढ़ेंः हाल-ए-रिम्स : अपनी ही पॉलिसी का रिम्स नहीं कर रहा पालन, ब्लड रिप्लेसमेंट देने को मजबूर परिजन

tte

पुलिस भर्ती के मेडिकल टेस्ट में अनफिट किसी अभ्यर्थी ने भेजा है पत्र

इस मामले पर रिम्स के प्रभारी निदेशक डॉक्टर आरके श्रीवास्तव ने कहा है कि धमकी भरे पत्र के साथ डॉ गोविंद गुप्ता उनसे मिलने आए थे. इसके बाद घटना की जानकारी बरियातू थाने के साथ वरीय पुलिस अधिकारियों को भेजा गया हैउन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय के द्वारा बनाए गए मेडिकल बोर्ड के सभी सदस्यों को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी गई है. पत्र में किसी का नाम दर्ज नहीं है केवल एक हिंसक शब्द लिखा हुआ है. पत्र मिलने के बाद डॉक्टर गुप्ता भयभीत हैं, लेकिन प्रबंधन उनके साथ है.

इन्हें दी गयी है सूचना

डॉ गोविंद गुप्ता ने मामले की जानकारी पुलिस अधीक्षक रांची, नगर पुलिस अधीक्षक, पुलिस महानिदेशक, अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य,चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाह और मुख्य न्यायाधीश झारखंड उच्च न्यायालय को दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button