न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

यशवंत सिन्हा ने भाजपा पर बोला हमला, लेख लिखकर कहा – बीजेपी की नीति से जनता व सहयोगी दलों में नाराजगी

14

New Delhi : अपनी की पार्टी के खिलाफ बोलकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी पर हमला बोला है. इस बार यशवंत सिन्हा ने एनडीए के घटक दलों के एनडीए से नाता तोड़ने को लेकर निशाना साधा है. ‘NDTV ऑनलाइन’ पर लिखे लेख में यशवंत सिन्हा ने कहा कि एनडीए के घटक दल एनडीए का साथ इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि इन लोगों ने जनता का मूड भांप लिया है. जनता भाजपा के खिलाफ हो चुकी है. बीजेपी अपनी कार्यप्रणाली से बेहतर बनने के बजाय   जनता पर बोझ बन गयी है. उन्होंने आगे लिखा है कि नीतीश कुमार NDA में शामिल होने वालों में सबसे नए हैं, लेकिन जदयू के उम्मीदवार को जहानाबाद विधानसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में आरजेडी से करारी हार का सामना करना पड़ा है. समय बदल रहा है.

eidbanner

New Delhi : अपनी की पार्टी के खिलाफ बोलकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी पर हमला बोला है. इस बार यशवंत सिन्हा ने एनडीए के घटक दलों के एनडीए से नाता तोड़ने को लेकर निशाना साधा है. ‘NDTV ऑनलाइनपर लिखे लेख में यशवंत सिन्हा ने कहा कि एनडीए के घटक दल एनडीए का साथ इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि इन लोगों ने जनता का मूड भांप लिया है. जनता भाजपा के खिलाफ हो चुकी है. बीजेपी अपनी कार्यप्रणाली से बेहतर बनने के बजाय   जनता पर बोझ बन गयी है. उन्होंने आगे लिखा है कि नीतीश कुमार NDA में शामिल होने वालों में सबसे नए हैं, लेकिन जदयू के उम्मीदवार को जहानाबाद विधानसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में आरजेडी से करारी हार का सामना करना पड़ा है. समय बदल रहा है. समय को देखते हुये घटक दल एनडीए से पीछा छुड़ाने में लगे हुये हैं.  यशवंत सिन्हा ने लिखा है कि अगले लोकसभा चुनाव में एनडीए में बदलाव देखने को मिलेगा. भाजपा के कुछ सहयोगी होंगे, लेकिन गठबंधन का स्वरूप और आकार में भी बदलाव देखने को मिलेगा. श्री सिन्हा के अनुसार  उत्तर प्रदेश और बिहार उपचुनाव के नतीजा आने के बाद त्रिपुरा में जीत हासिल करने पर बीजेपी के प्रति धारणा में भी बदलाव आया है.

इसे भी पढ़ेंः 13 माह में भी मोदी ने नहीं दिया मिलने का समय, अब भाजपा अटल-आडवाणी के जमाने वाली नहीं : यशवंत सिन्हा

सहयोगी दलों में है नाराजगी

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत ने कहा कि बीजेपी के रवैये से NDA के सहयोगी दल नाखुश हैं. उन्होंने लिखा है कि भाजपा के रवैये से शिवसेना समेत कई सहयोगी दल नाखुश हैं. उन्होंने टीडीपी का उदाहरण देते हुये कहा कि टीडीपी अपने 16 सांसदों के साथ पहले कैबिनेट से अपने मंत्रियों को हटा लिया था और बाद में एनडीए से अलग हो गई. टीडीपी की नाराजगी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टीडीपी केवल एनडीए से अलग ही नहीं हुई, बल्कि सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव भी लाया है. पंजाब में अकाली दल बार-बार अपनी नाखुशी जाहिर कर रहा है.

इसे भी पढ़ेंः इस आपातकाल में भाजपा के नेता-मंत्री जजों की तरह हिम्मत करें, डर से निकलें, खुलकर बोलें : यशवंत सिन्हा

बिहार में लोजपा और रालोसपा भी नाखुश

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

जीतन राम मांझी एनडीए से नाता तोड़कर अब यूपीए में शामिल हो चुके हैं. उन्होंने लिखा है कि बिहार में लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान और उपेन्द्र कुशवाहा भी एनडीए से नाराज नजर आ रहे हैं. रामविलास पासवान बीजेपी को उपदेश देते नजर आ रहे हैं, वहीं उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी राजद के संपर्क में देखी जा रही है. जीतन राम मांझी ने दो दिन पहले ही रामविलास को एक बेहतर मौसम वैज्ञानिक बताते हुये कहा था कि पासवान जी मौसम का मिजाज भाप रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः कंबल घोटालाः घोटालेबाजों पर कार्रवाई की फाइल को डेढ़ माह से दबाये हुए हैं “बेदाग सरकार” वाले सीएम के प्रधान सचिव सुनील बर्णवाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी रहे हैं यशवंत के निशाने पर

भाजपा की आलोचना का ये कोई पहला मौका नहीं है. भाजपा के खिलाफ बोलकर यशवंत सिन्हा हमेशा चर्चा में बने रहते हैं. श्री सिन्हा ने कुछ दिनों पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी आलोचना की थी. नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था. श्री सिन्हा ने कहा था कि सरकार में केवल एक व्यक्ति ही नीतियां बनाता है. उन्होंने कहा कि नोटबंदी से पहले किसी को विश्वास में नहीं लिया गया था. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना मोहम्मद बिन तुगलक तक से कर दी थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: