न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी हो गये हैं बूढ़े, भाषण कंटेंटलेस, राजनीति छोड़ें और लें चैन की नींद – जिग्नेश मेवानी

8

New Delhi : गुजरात चुनाव में बीजेपी 99 सीटें जीत गई और सत्ता में फिर से वापसी कर डाली. छठी बार गुजरात में बीजेपी की वापसी ने जहां सरकार को बल दिया है. वहीं 99 सीटें लाने पर भी कहा जा रहा है कि मोदी मैजिक की चमक फीकी हो गयी है. लेकिन इस बार के गुजरात चुनाव में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, दलित नेता जिग्नेश मेवानी और ठाकोर समुदाय से आने वाले अल्पेश ठाकुर ने भी अपना मैजिक चलाया है. तीनों ही नेताओं ने कांग्रेस को सपोर्ट किया और 77 सीटें पार्टी को दिलाने में अहम भूमिका निभायी. चुनाव के बाद ये तीनों नेता गुजरात में हीरो बनकर उभरे हैं और अब निगाहें लोकसभा की ओर गड़ाये हुए हैं. इंडिया टुडे से इन तीनों नेताओं ने खुलकर बात की. गुजरात चुनाव से लेकर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पर इन्होंने अपनी बेबाक राय रखी. तीनों ही नेताओं का साफतौर पर कहना था कि नरेंद्र मोदी को राजनीति अब छोड़ देनी चाहिए. इसके अलावा तीनों ने आरक्षण, विकास, नौकरी और किसानों के अधिकार पर लड़ाई लड़ने की भी बात कही.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-07ः कथित मुठभेड़ स्थल पलामू में, मुठभेड़ करने वाला सीआरपीएफ लातेहार का और लातेहार एसपी को सूचना ही नहीं

मोदी के भाषण  में लगती है बोरियत – मेवाणी 

बातचीत के दौरान जब तीनों नेताओं से पीएम के बयान कि, आप तीनों नेता जाति के आधार पर समाज का ध्रुवीकरण कर रहे हैं, तो इसके जवाब में जिग्नेश मेवानी ने पलटवार भी किया और करारा जवाब देते हुए कहा कि,    ”मोदी अब बूढ़े हो चुके हैं और हम बार वही बोरिंग भाषण दिया करते हैं और उसमें कोई कंटेट भी नहीं होता है. इसके साथ ही मेवाणी ने कहा कि अब पीएम नरेंद्र मोदी को रिटायर हो जाना चाहिए और चैन की नींद लेनी चाहिए.

हमने मोदी को विकास के मुद्दे पर घेरा ना कि जातिवाद पर – मेवाणी

मेवानी ने बातचीत में यह भी स्पष्ट किया कि, हमने मोदी को विकास के मुद्दे पर घेरा ना कि जातिवाद पर. मेवाणी ने ये भी कहा कि हम तीनों नेता देश के 2 करोड़ बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार की बात करते हैं तो उसमें जातिवाद की बात नहीं करते. मेवानी ने पीएम के बारे में कहा कि, मोदी बोरिंग हैं औक देश के युवा अल्पेश, हार्दिक पटेल और कन्हैया कुमार को पसंद कर रहे हैं. इसके साथ ही जब 2019 के बारे में उनसे पूछा गया कि क्या आप तीनों मोदी और बीजेपी को चुनौती देंगे, चूंकि दलितों में बीजेपी के खिलाफ गुस्सा होने के बावजूद भी बीजेपी जीत गई? इस पर उनका कहना था कि 18 प्रतिशत दलित जनसंख्या बीजेपी के खिलाफ वोट करेगी.

इसे भी पढ़ेंः प्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी छात्र पर बालिग की तरह चलेगा केस, 22 से होगी सुनवाई

मेवानी ने इस बातचीत में कहा कि बीजेपी की जीत मात्र 99 तक आ चुकी है, लेकिन वह 150 सीटों तक उम्मीद लगाये बैठे थे. हालांकि जब मेवानी से पूछआ गया कि किया भविष्य में कभी पाटीदार, ओबीसी और दलित एक साथ आएंगे तो उन्होंने तुरंत स्पष्ट कर दिया कि यह जातिवादी राजनीति नहीं है. क्योंकि हम गरीब किसानों और गुजरात के विकास की बात करेंगेयहां गौर करने वाली बात यह है कि 37 पाटीदार बहुल सीटों पर बीजेपी ने 23 पर बाजी मारी है. जबकि बीजेपी को सबसे ज्यादा सूरत, राजकोट और अहमदाबाद में वोट मिले हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: