न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी सरकार ने अमीरों के 1.88 लाख रुपये का कर्ज किया माफः सिंघवी

65

News Wing
New Delhi, 01 Decmber:
बड़े बकायादारों के कर्ज को माफ नहीं करने के वित्त मंत्री अरुण जेटली के दावे को लेकर कांग्रेस ने उनपर पलटवार किया है. कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा है कि वह लोगों को मूर्ख बनाने का काम कर रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि सरकार ने जान कर कर्ज नहीं लौटाने वाले लोगों के 1.88 लाख करोड़ रुपये के कर्ज माफ किए हैं. साथ ही उन्होंने पीएम मोदी पर पूंजीपति मित्रों के साथ सांठगांठ करने का आरोप लगाया है. मोदी सरकार ने चुनिंदा पूंजीपति समूह का कर्ज माफ कर लगातार उनकी मदद की है.

इसे भी पढ़ें- रिलायंस कंपनी कांग्रेस नेता सिंघवी पर 5,000 करोड़ के मानहानि का मुकदमा करेगी

सार्वजनिक स्तर पर उपलब्ध साक्ष्य हैं दावे के विपरीत

सिंघवी ने बैंकों के बड़े बकायादारों के कर्ज माफ नहीं करने के जेटली के दावों को गलत बताया और कहा कि सार्वजनिक स्तर पर उपलब्ध साक्ष्य इस दावे के विपरीत हैं. उन्होंने कहा कि पिछले तीन साल में भाजपा सरकार ने जान बूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले लोगों के 1,88,287 करोड़ रुपये का कर्ज पहले ही माफ कर चुकी है. साथ ही उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए कहा कि 2014-15 में 49,018 करोड़ रुपये, 2015-16 में 57,586 करोड़ रुपये और 2016-17 में 1.88 लाख करोड़ रुपये का कर्ज मोदी सरकार के द्वारा माफ किया गया है.

बड़े डिफॉल्टर का कर्ज माफ नहीं किया गयाः जेटली

बता दें कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा था कि सरकार ने किसी भी बड़े डिफॉल्टर का कर्ज माफ नहीं किया है. जेटली ने ब्लॉग लिखकर कहा था कि पिछले कुछ दिनों से एक अफवाह उड़ाई जा रही है कि उद्योगपतियों के कर्ज को माफ किया जा रहा है. उन्होंने लिखा है कि अब वक्त आ गया है कि देश को इस बारे में तथ्यों का पता चले. उन्होंने कहा कि सरकार ने बड़े एनपीए डिफॉल्टर्स के किसी भी कर्ज को माफ नहीं किया है. 12 सबसे बड़े डिफॉल्टर्स से समयबद्ध रिकवरी की कार्यवाही शुरू की गई है. इन 12 डिफॉल्टर्स का कुल एनपीए 1 लाख 75 हजार करोड़ रुपये हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: