न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

माओवादियों के बंद का राज्‍य के कई जि‍लों में दिखा व्‍यापक असर, नहीं चले वाहन, दुकानें रही बंद  

121

Ranchi : भाकपा माओवादियों द्वारा आहूत झारखंड बंद का राज्य के कई जिले में व्यापक असर देखा जा रहा है. बंद के कारण लातेहार, पलामू, सिमडेगा, प. सिंहभूम, खूंटी में यात्री वाहनों के साथ-साथ ट्रकों का परिचालन भी पूरी तरह से ठप रहा. सिमडेगा में भी माओवादियों द्वारा आहूत बंद का व्यापक असर देखा गया. इसके चलते व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहें और वाहनों का परिचालन ठप रहा.

लातेहार के चंदवा प्रखंड में दुकानें खुली हुई थी, लेकिन सड़क पर वाहन नहीं नजर आ रहे थे. मनिका, हेरंहज प्रखंड में दुकानें बंद रही, वहीं महुआडांड़ प्रखंड में भी दुकानें बंद रही. सड़क पर वाहनों का परिचालन नहीं हुआ. वहीं खूंटी के अड़की, मुरहू प्रखंड में भी बंद का व्यापक असर देखा गया. सिमडेगा जिला के कोलेबीरा, जलडेगा, बानो प्रखंड में एक भी दुकान नहीं खुली. लोहरदगा में भी बंद का व्‍यापक असर देखा गया. यात्री वाहन के साथ-साथ बॉक्‍साइट ट्रकों का भी परिचालन पूरी तरह ठप रहा. नक्सली बंद की वजह से राज्‍य के कई हिस्‍सों में आमजन परेशान रहें. यात्री वाहनों का परिचालन नहीं होने के कारण यात्री परेशान दिखे.

इसे भी पढ़ें- चार लाख का केक, 19 लाख का फूल और 2.5 करोड़ का टेंट : झारखंड की बेदाग सरकार पर अब “स्थापना दिवस घोटाले” का दाग

गिरीडीह, सिमडेगा, लोहरदगा, चाईबासा, पलामू, लातेहार के लिए रांची से नहीं खुली बसें

रांची से खुलने वाली बसें गुरुवार को बस स्टैंड में ही खड़ी नजर आयी. यात्री वाहनों का परिचालन नहीं होने से यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. ऐसे में आम यात्रियों के साथ-साथ व्यवसायी वर्ग को काफी परेशानी हुई.

silk

इसे भी पढ़ें- रांची में हर महीने आधे दर्जन आर्म्स एक्ट का मामला होता है दर्ज, पूरे राज्य में 559 मामले आए सामने 

तीन इनामी समेत 15 नक्सलियों की गिरफ्तारी के विरोध में बुलाया था बंद

नक्सलियों ने पुलिस द्वारा कथित उत्पीड़न को लेकर झारखंड बंद की घोषणा की थी. डुमरी के अकबकीताड से तीन इनामी समेत 15 नक्सलियों की गिरफ्तारी के विरोध में बंद बुलाया था. प्रतिबंधित नक्सली संगठन द्वारा हिंसक कार्रवाई की आशंका के मद्देनजर पुलिस ने राज्यभर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: